ऑस्ट्रेलियाई टीम © Getty Images
ऑस्ट्रेलियाई टीम © Getty Images

भारत जैसी मजबूत टीम के खिलाफ कड़ी परीक्षा से पहले एक अनुभवहीन टीम का सामना करना किसी भी टीम के लिये आदर्श तैयारी नहीं माना जाएगा लेकिन ऑस्ट्रेलिया मंगलवार को चेन्नई में बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन की कमजोर टीम के खिलाफ आगे की चुनौतियों को ध्यान में रखकर पूरी तैयारियों के साथ उतरेगी। स्टीव स्मिथ की अगुवाई में ऑस्ट्रेलियाई टीम बांग्लादेश में दो टेस्ट मैचों की सीरीज बराबर कराकर भारत पहुंची है और मंगलवार को होने वाला टूर मैच उनके लिए वनडे फॉर्मेट में ढलने के मौके की तरह होगा।

वर्ल्ड चैंपियन ऑस्ट्रेलिया को मोजूदा समय में स्पिनर्स के खिलाफ खासा परेशानी हुई है जिसे उसके कप्तान स्टीवन स्मिथ ने भी माना है। ऐसे में कंगारू टीम बोर्ड प्रेसिडेंट इलेवन के स्पिनर्स के खिलाफ एक खास रणनीति के साथ खेलती नजर आएगी। ऑस्ट्रेलिया की टीम को जिन खिलाड़ियों का सामना करना है उनमें केवल गुरकीरत मान ही ऐसे खिलाड़ी हैं जिन्होंने अंतरराष्ट्रीय मैच खेले हैं। उन्होंने 2016 के शुरू में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ही तीन वनडे खेले थे और उसके बाद टीम में वापसी नहीं कर पाये।

ज्यादातर भारतीय खिलाड़ी अभी दिलीप ट्राफी में व्यस्त हैं और इसलिए चयनकर्ताओं ने अभ्यास मैच के लिये जो टीम चुनी है उनमें अधिकतर अनजान खिलाड़ी हैं लेकिन उनके पास खुद को साबित करने का यह अच्छा मौका है क्योंकि हर बार किसी अंतरराष्ट्रीय टीम का सामना करने का अवसर नहीं मिलता है। ऑस्ट्रेलिया की तुलना में बोर्ड अध्यक्ष एकादश के खिलाड़ियों को इस टूर मैच से अधिक फायदा मिलेगा।

ऑस्ट्रेलिया की टीम मजबूत
आस्ट्रेलियाई कप्तान स्मिथ और उप कप्तान डेविड वॉर्नर उनकी टीम के दो बड़े बल्लेबाज हैं। वार्नर ने बांग्लादेश में दो शतक जमाये थे और स्मिथ को उम्मीद है कि अनुभवी एरॉन फिंच, ग्लेन मैक्सवेल और अन्य खिलाड़ी भी अपेक्षाओं पर खरे उतरेंगे। ऑस्ट्रेलिया की टीम में कई आलराउंडर हैं जिनमें जेम्स फाकनर, मार्कस स्टोनिस, नाथन कूल्टर नाइल भी शामिल हैं। इन सभी को आईपीएल में खेलने के कारण भारतीय पिचों पर खेलने का अनुभव है। अभ्यास मैच में अच्छे प्रदर्शन से वो रविवार को चेन्नई में ही होने वाले पहले वनडे के लिये प्लेइंग इलेवन में जगह बनाने के हकदार बन जाएंगे। मैक्सवेल और विकेटकीपर मैथ्यू वेड के लिये ये बड़ी सीरीज है क्योंकि बांग्लादेश में उनका प्रदर्शन औसत रहा था।

स्मिथ पहले ही कह चुके हैं कि इस सीरीज में प्रदर्शन मायने रखेगा क्योंकि चयनकर्ता एशेज टीम के लिये टेस्ट टीम के छठे नंबर के बल्लेबाज और विकेटकीपर की तलाश में हैं। एशेज नवंबर में शुरू होगी। अभ्यास मैच से जहां बल्लेबाजों को पहले वनडे से पहले कुछ खेलने का मौका मिलेगा वहीं गेंदबाज भारत की उमस भरी परिस्थितियों में जल्द से जल्द लय हासिल करने की कोशिश करेंगे।