Haunted-Cricket-Stories

मनुष्य की मृत्यु के बाद उसका शरीर तो बेजान हो जाता है लेकिन उसकी आत्मा फिर भी जिंदा रहती है जो कई बार पृथ्वी में ही अनेकों सालों तक घूमती रहती है। मानव इतिहास इस तरह की कई कथाओं से भरा पड़ा है जिसमें अलौकिक, असाधारण व दिव्य शक्तियों के बारे में जिक्र आता है। क्रिकेट भी भूतों की कहानियों से अछूता नहीं है। क्रिकेटरों ने कई विदेशी दौरों में होटल के कमरे में इस तरह के खतरनाक भूतानी एहसासों को महसूस किया है जिसके कारण उन्हें मजबूरी में होटल बदलना पड़ा। इन घटनाओं से कई क्रिकेटर तो इतने डर गए कि उनकी रातों की नींदे गायब हो गईं। भूतों के इस जंजाल में कई नामी गिरामी क्रिकेटर भी फंसे जिनमें एमएस धोनी, शेन वॉटसन, स्टुअर्ट ब्रॉड और हैरिस सोहेल शामिल हैं। लेकिन इन्होंने किस तरह से इन अलौकिक शक्तियों को महसूस किया। आइए जानते हैं।

लमली कैस्टल होटल, चेस्टर ले-स्ट्रीट, डरहम : यह बात साल 2005 की है। गर्मियों का मौसम था, ऑस्ट्रेलिया एशेज सीरीज खेलने के लिए इंग्लैंड के दौरे पर आई थी। इस सीरीज में लंबे अरसे के बाद इंग्लैंड ने ऑस्ट्रेलिया को हराकर इतिहास रचा था, जिसको लेकर पूरे विश्व भर में चर्चा हुई थी। लेकिन इस सीरीज के दौरान एक घटना घटी जिसने सभी को झकझोर दिया। ऑस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच पहला टेस्ट मैच लॉर्ड्स क्रिकेट मैदान पर (21 से 25 जून) खेला जा रहा था।

यह इंग्लैंड का लमली कैस्टल होटल है, यहां ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन बुरी तरह से डर गए थे © Getty Images
यह इंग्लैंड का लमली कैस्टल होटल है, यहां ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन बुरी तरह से डर गए थे © Getty Images

इंग्लैंड की टीम इस दौरान एक पुराने होटेल लमली कैस्टल, चेस्टर ले-स्ट्रीट, डरहम में ठहरी हुई थी। 22 जून को ऑस्ट्रेलिया के शेन वॉटसन होटल में भूत देखकर एका-एक डर गए।यहां तक की ऑस्ट्रेलियाई टीम की मीडिया मैनेजर को भी कोई साया दिखा और वह भी बुरी तरह से डर गईं। उन्होंने कहा, ‘मैं इस बारे में पूरी तरह से स्पष्ट हूं कि मैंने भूत देखा’, वह बहुत डरी हुई थीं। इस घटना के बाद वॉटसन ली के कमरे में सोने गए। स्थानीय लोगों के मुताबिक इस होटल में आज भी 14वीं शताब्दी के रईस लोग भूत बनकर घूमते हैं। इन रईसों की हत्या कैथोलिक पुजारियों ने कर दी थी। इसके अलावा इस हवेली(अब होटेल) की महारानी को भी पुजारियों ने इसलिए मार डाला था क्योंकि उसने कैथोलिक धर्म अपनाने से इंकार कर दिया था। इसके पहले भी इस होटल में कुछ क्रिकेटर ऐसा ही महसूस कर चुके हैं। साल 2000 में जब वेस्टइंडीज टीम ने इंग्लैंड का दौरा किया, तब वे इसी होटल में ठहरे हुए थे। इसी बीच वेस्टइंडीज के तीन क्रिकेटरों को होटल में एक अजीब सा साया नजर आया था और वह डर गए थे। इस घटना के तुरंत बाद वेस्टटइंडीज टीम ने होटल छोड़ दिया और दूसरे होटल में रहने को चले गए। साए से डरने वालों में से वेस्टइंडीज के कप्तान जिमी एडम्स भी थे।
लैंघम होटल, लंदन : लंदन का लैंघम होटल किसी अन्य होटलों के मुकाबले बेहद जुदा है। यहां सेलीब्रिटीज का दिखना एक आम बात है। यह होटल नामी-गिरामी गायकों से लेकर, क्रिकेटरों और फिल्म स्टारों की पहली पसंद है। हालांकि 2014 में इंग्लैंड के क्रिकेटर स्टुअर्ट ब्रॉड ने होटल स्टाफ से फौरन अपने कमरे को बदलने के लिए कहा। ब्रॉड के साथ उनके साथी क्रिकेटरों बेन स्टोक्स, और भारतीय टीम के कप्तान ने भी यह बात दुहराई थी।

लंदन का लैंघम होटल, Photo Courtesy – Wikipedia
लंदन का लैंघम होटल, Photo Courtesy – Wikipedia

उन्होंने इसके पीछे किसी के साए के होटेल रूम में घूमने की बात कही थी। ब्रॉड ने एक अंग्रेजी अखबार के साथ साक्षात्कार में कहा था, ‘श्रीलंका के साथ खेले जा रहे टेस्ट मैच के दौरान मुझे कमरा बदलना पड़ा था। मेरा कमरा बहुत गर्म था जिसके कारण मैं सो नहीं पा रहा था। इतने में ही मुझे बाथरूम से ठप-ठप की आवाजें सुनाई दीं। मैंने लाइट ऑन की और ठप-ठप अपने आप बंद हो गया और जब एक बार फिर से मैंने लाइट ऑफ की तो ठप-ठप की आवाजें फिर से सुनाई देने लगीं। इतनी अजीब-अजीब आवाजें सुनकर मैं बुरी तरह से डर गया। इसी दौरान जब मैं एक रात 1.30 बजे जगा तो मुझे ऐसा महसूस हुआ कि कमरे में कोई है और मेरे मन में अजीब-अजीब से ख्याल आने लगे। मैंने फौरन होटल स्टाफ से कमरा बदलने के लिए कहा। मेरी गर्लफ्रेंड बेली भी बहुत डर गई थी। मेरे अलावा बेन स्टोक्स को भी इसी तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा।’  इस होटल के तीसरे फ्लोर पर अक्सर ऐसी समस्याएं देखी गई हैं।’

लैंघम होटल को साल 1865 में खोला गया था। यह होटल विश्व की कई नामी-गिरामी हस्तियों की खिदमत कर चुका है। जिनमें मार्क त्वेन, ऑस्कर वाइल्ड और ऑर्थर कॉनन डॉयल शामिल हैं। इस होटल को विश्व के सबसे डरावने होटल के रूप में भी जाना जाता है। रिपोर्ट्स के आधार पर इस होटल का कमरा नंबर 333 भूतानी गतिविधियों का केंद्र है। इस होटल की वेबसाइट में लिखा हुआ है, ‘ साल 1973 में बीबीसी एनाउंसर अलेक्जेंडर-गॉर्डन इस होटेल में ठहरे हुए थे।

इसी बीच वह आधी रात को एकदम से जग उठे। उन्होंने देखा कि एक चमकदार गेंद ने धीरे-धीरे एक व्यक्ति का रूप ले लिया जो विक्टोरियन इवनिंग कपड़े पहने हुए थे। एनाउंसर ने भूत से पूछा कि वह क्या चाहता है? उसके इतना कहते ही अपने कटे हुए पैरों के साथ लगभग दो फीट हवा में उड़ता हुआ वह धीरे-धीरे एनाउंसर की ओर बढ़ने लगा। इसी बीच एनाउंसर उठा और वहां से भाग खड़ा हुआ।

राइजस लाटिमार होटल, क्राइसचर्च, न्यूजीलैंड : पाकिस्तान के क्रिकेटर हैरिस सोहेल को विश्व कप 2015 की शुरुआत में ही भूत के साए से सामना करना पड़ा और वह डर गए। ऑस्ट्रेलिया-न्यूजीलैंड में आयोजित किए गए विश्व कप 2015 के शुरुआती दिनों में पाकिस्तान टीम क्राइसचर्च के होटल राइजस लाटिमार में ठहरी हुई थी। इस होटल में जब हैरिस सोहेल अपने कमरे में सो रहे थे तो उन्होंने महसूस किया कि उनका बिस्तर किसी अलौकिक घटना के कारण हिल रहा है।

राइजस लाटिमार होटल, क्राइसचर्च, न्यूजीलैंड
राइजस लाटिमार होटल, क्राइसचर्च, न्यूजीलैंड

वह इतना डर गए कि वह आखिरकार जाकर कोच के कमरे में सोए। टीम के मैनेजर ने बताया था कि सोहेल ने कोचिंग स्टाफ को बुलाकर अपने बेड के हिलने की बात कही थी। जब टीम के कोच उसके कमरे में पहुंचे तो सोहेल बुरी तरह से डरा हुआ था और उसके बदन में तेज बुखार था। हालांकि इस होटेल में भूत होने की बात इसके पहले कभी सामने नहीं आई थी।

फिरोजशाह कोटला के जिन : दिल्ली भारत के सबसे प्राचीन शहरों में से एक है। यह शहर जीसस क्राइस्ट के जन्म के पहले का है। भारत की वर्तमान राजधानी दिल्ली में कई पराक्रमी शासकों ने राज किया और कई वंश दिल्ली की राजगद्दी को पाने की चाह में मर-मिट गए। यह कहा जाता है कि इस शहर का निर्माण सात बार किया गया है। इस शहर के हर एक कोने में राज छुपा हुआ है।

kotla

दिल्ली के बीच में स्थित प्रसिद्ध फिरोजशाह कोटला मैदान आज भी अनिल कुंबले के टेस्ट क्रिकेट में 10 विकेट-हॉल को बड़े फक्र से याद करता है। इसी स्टेडियम के बगल से फिरोज शाह का पुराना शहर बसा हुआ है। इसमें फिरोजशाह का गढ़ भी बना हुआ है। स्टेडियम आने-जाने के दौरान बीच में ही यह किला मिलता है। कहा जाता है इसमें जिन का वास है। जिन एक ऐसा दैत्य होता है जो लोगों की मुरादों को पूरा कर देता है।

इस किले के पास गुरुवार को लोगों की भीड़ एकत्रित होती है जो अपने ख्वाहिशों को पूरा करने के लिए अपनी मुरादें रखते हैं। यह भी कहा जाता है कि यह जिन प्राणी कभी-कभार यहां घूमते भी नजर आ जाते हैं। हो सकता है कि कई नए क्रिकेटर भी स्टेडियम में बाहर व भीतर जाने के दौरान इन दैत्यों के जाल में फंसते-फंसते बचे हों।