First 10 seasons team finishing second have won IPL trophy five times.
Chennai Super Kings team © IANS

इंडियन प्रीमियर लीग में अंतिम चार टीमों के नाम का फैसला हो गया है। इन चार टीमों में से सनराइजर्स हैदराबाद और चेन्नई सुपर किंग्स पहले दो स्थान पर रही हैं। कोलकाता नाइट राइडर्स और राजस्थान रॉयल्स की टीम तीसरे और चौथे पायदान पर है। अगर आईपीएल इतिहास पर नजर डाले तो दूसरे नंबर पर रहने वाली टीम ने 5 बार खिताब जीता है।

जानिए, IPL क्वालीफायर और एलिमिनेटर के क्या हैं फायदे और क्या नुकसान
जानिए, IPL क्वालीफायर और एलिमिनेटर के क्या हैं फायदे और क्या नुकसान

2018 में आईपीएल के 11वां सीजन के मुकाबले खेले जा रहे हैं। अब तक के कुल 10 सीजन में लीग स्टेज मुकाबलों के बाद प्वाइंट्स टेबल पर दूसरे नंबर पर रहने वाली टीम ने ज्यादा बार खिताब जीता है। पहले स्थान पर आने वाली टीम ने सिर्फ दो बार ही आईपीएल की ट्रॉफी जीती है।

चेन्नई सुपर किंग्स प्वाइंट्स टेबल में दूसरे स्थान

अगर हम आईपीएल के पुराने आंकड़ों के हिसाब से चलें तो इस बार चेन्नई सुपर किंग्स की टीम चैंपियन बनने वाली है। यह सिर्फ और सिर्फ पुराने आंकड़ों को ध्यान में रखते हुए कहा जा सकता है। इस सीजन में चेन्नई की टीम ने दूसरे नंबर पर प्लेऑफ में कदम रखा है।

दूसरे नंबर पर रहने वाली 5 टीम बन चुकी है चैंपियन

साल 2011 में भी चेन्नई दूसरे स्थान पर रही थी और खिताब जीता था। साल 2012 में कोलकाता नाइट राइडर्स दूसरे नंबर पर थी और पहली बार आईपीएल की ट्रॉफी जीती थी। 2013 में खेले गए आईपीएल में मुंबई इंडियंस ने दूसरे स्थान रहते हुए प्लऑफ में जगह पक्की की थी और अपना पहला खिताब भी उसे इसी साल हासिल हुआ था।

साल 2014 में कोलकाता की टीम को दूसरी बार ट्रॉफी जीतने का गौरव हासिल हुआ टीम ने प्लेऑफ में दूसरे नंबर पर रहते हुए क्वालीफाई किया था। इसके अगले साल यानी 2015 में खेले गए टूर्नामेंट की विजेता मुंबई इंडियंस बनीं थी और इत्तेफाक देखिए इस टीम को भी 14 मुकाबलों के बाद प्वाइंट्स टेबल पर दूसरा स्थान ही मिला था।