पाकिस्तानी टीम © Getty Images
पाकिस्तानी टीम © Getty Images

आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पाकिस्तान की टीम ने 50 ओवरों में 4 विकेट खोकर 338 रनों का स्कोर बनाया। इसके साथ ही पाकिस्तान की टीम ने कई इतिहास रचे। फाइनल में भारत के खिलाफ पाकिस्तान के खिलाड़ियों ने शानदार बल्लेबाजी का मुजाहिरा पेश किया और कई रिकॉर्ड बनाए। पाकिस्तान की इस पारी में 1 शतक और 2 अर्धशतक लगे। सलामी बल्लेबाज फखर जमान ने जहां (114) रनों की शानदार पारी खेली। तो वहीं मोहम्मद हफीज ने (57) और अजहर अली ने (59) रनों की पारी खेली। आइए नजर डालते हैं पाकिस्तान ने फाइनल मुकाबले में क्या रिकॉर्ड बनाए। ये भी पढ़ें: फाइनल मुकाबले में भारत के सामने 339 रनों का लक्ष्य

चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान का सबसे बड़ा स्कोर: चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान का ये अब तक का सबसे बड़ा स्कोर है। इससे पहले पाकिस्तान ने सेंचूरियन में साल 2009 में भारत के ही खिलाफ 9 विकेट के नुकसान पर 302 रन बनाए थे। भारत के खिलाफ फाइनल मुकाबले में पाकिस्तान ने आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी में अब तक का अपना सबसे बड़ा स्कोर बनाने में कामयाबी पाई।

टीम खिलाफ स्कोर साल
ऑस्ट्रेलिया भारत 359/2 2007
पाकिस्तान भारत 338/4 2017
इंग्लैंड भारत 325/5 2002

आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में दूसरा सबसे बड़ा स्कोर: भारत के खिलाफ पाकिस्तान के 338 रन किसी भी आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल का दूसरा सबसे बड़ा स्कोर है। साथ ही ये सिर्फ दूसरा मौका है जब आईसीसी टूर्नामेंट के फाइनल में किसी टीम ने 300 से ज्यादा रन बनाए हैं। इससे पहले ऑस्ट्रेलिया ने साल 2003 विश्व कप के फाइनल में भारत के खिलाफ (359) रन बनाए थे। ये भी पढ़ें: फखर जमान की विस्फोटक बल्लेबाजी के पीछे है इस धुरंधर का हाथ

300 से ज्यादा रन जीत हार
कुल 57 मैचों में 51 5
भारत के खिलाफ 12 मैचों में 9 2
आईसीसी टूर्नामेंट में कुल 7 मैचों में 6 0

300 से ज्यादा रन बनाने के बाद ज्यादातर मैच जीतती है पाकिस्तान: पाकिस्तान की टीम जब भी 300 से ज्यादा रन बनाती है, टीम को ज्यादातर मैचों में जीत मिलती है। पाकिस्तान ने अब तक कुल 57 मैचों में 300 या इससे ज्यादा रन बनाए हैं और इस दौरान टीम को 51 मैचों में जीत मिली है और 5 में उन्हें शिकस्त झेलनी पड़ी है। भारत के खिलाफ पाकिस्तान ने अब तक कुल 12 मैचों में 300 या इससे ज्यादा का स्कोर किया है और टीम ने इस दौरान 9 में जीत हासिल की है और 2 में उन्हें हार मिली है। आईसीसी टूर्नामेंट की बात करें तो टीम ने 7 मैचों में 300 या इससे ज्यादा का स्कोर किया है और इस दौरान टीम ने 6 मैचों में जीत हासिल की है और उन्हें 1 बार भी हार नहीं मिली है।