Inconsistent middle-order worrying sign for India
MS Dhoni and Virat Kohli

पिछले मैच में मिडिल ऑर्डर की कमजोरियों के उजागर होने के बाद भारतीय टीम मंगलवार इंग्लैंड के खिलाफ सतर्क रहना चाहेगी। तीसरे और अंतिम वनडे में इस कमी को दूर कर विराट कोहली के सेना लगातार 10 वीं सीरीज अपने नाम करने का इरादा लेकर मैदान पर उतरेगी।

मिडिल ऑर्डर दबाव के बोझ से घिरा है क्योंकि भारत चौथे नंबर के लिए अब तक कोई नियमति खिलाड़ी नहीं ढूंढ सका है। किसी भी सफल वनडे टीम के लिए यह स्थान सबसे ज्यादा अहम होता है और पिछले कुछ समय से भारत इस स्थान के लिए हल ढूंढने में जूझ रहा है।

चौथे नंबर पर राहुल को मौका

इस सीरीज में लोकेश राहुल ने चौथे नंबर पर वापसी की है। उनकी सबसे बड़ी परीक्षा लार्ड्स पर थी। इस मैच में वह शून्य पर आउट हो गये। भारत के पास बेंच पर दिनेश कार्तिक और श्रेयस अय्यर मौजूद हैं। हालांकि टीम प्रबंधन के धोनी के आगे कार्तिक के नाम पर विचार करने की संभावना नहीं है।

यह भी दीगर हो कि पिछला वनडे ब्रिटेन दौरे पर सिर्फ तीसरा मौका था जब धोनी को मध्यक्रम में बल्लेबाजी का मौका मिला, इससे पहले उन्होंने डबलिन और कार्डिफ में टी 20 में बल्लेबाजी की थी।

कोहली, रोहित और शिखर पर निर्भर हुई टीम

पिछले कई मुकाबलों में लगातार रोहित शर्मा, शिखर धवन और विराट कोहली की तिकड़ी भारतीय टीम के लिए रन बना रही है। पिछले मुकाबले में मिलिड ऑर्डर पर दबाव पड़ते ही वह बिखर गई। पिछले दो सीजन में इस तिकड़ी ने भारत के वनडे रनों में करीब 60 प्रतिशत रन जुटाये हैं और इस फॉर्मेट में टीम को लगातार जीत दिलाई है।