© Getty Images
© Getty Images

साल 2017 में जीत के अलावा कुछ नहीं देखने वाली टीम इंडिया अब द.अफ्रीका में पारी दर पारी जूझ रही है। कहने को टीम इंडिया दुनिया की नंबर 1 टेस्ट टीम है लेकिन जिस तरह से उसके बल्लेबाज और फील्डरों नें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ प्रदर्शन किया है उसे देखकर यही लगता है कि ये टीम ना तो द.अफ्रीका में टेस्ट सीरीज जीत सकती है और ना ही ये टीम नंबर 1 टीम कहलाने के लायक है। आइए डालते हैं उन वजहों पर जो नंबर 1 टेस्ट टीम की पोल खोल रहे हैं।

1. खराब फील्डिंग- कहने को दुनिया की नंबर 1 टीम भारत अपने स्क्वॉड में सबसे फिट खिलाड़ियों को ही रखती है। इसके लिए वो यो-यो टेस्ट को बहुत अहमियत देती है। जो खिलाड़ी इस टेस्ट को पास करता है वो ही फिट माना जाता है और उसे ही टीम इंडिया में चुना जाता है। लेकिन ऐसी फिटनेस का क्या फायदा कि खिलाड़ी कैच ही नहीं लपक पाएं। विराट कोहली, शिखर धवन, हार्दिक पांड्या, पार्थिव पटेल ये टीम इंडिया के ऐसे नाम हैं जिन्होंने अहम मौकों पर कैच टपका कर द.अफ्रीका को जीतने का मौका दिया है। टीम इंडिया को सबसे अच्छी फील्डिंग यूनिट माना जाता है लेकिन सच ये है कि स्लिप पोजिशन में टीम इंडिया के खिलाड़ी सबसे ज्यादा कैच टपकाते हैं।

2. बल्लेबाजों में दम नहीं- टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली को अगर छोड़ दें तो बाकी सभी बल्लेबाज मुश्किल पिच पर सरेंडर करते नजर आते हैं। रोहित शर्मा, शिखर धवन, चेतेश्वर पुजारा जैसे बल्लेबाज हिंदुस्तानी सरजमीं पर रनों का अंबार लगाते हैं लेकिन जैसे ही गेंद उछाल लेती है, तेज होती है या हवा में हरकत करती है तो इनके बल्ले को जंग लग जाता है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 2 टेस्ट की 3 पारियों में किसी बल्लेबाज को देखकर ये नहीं लग रहा कि वो टिक कर रन बना सकता है। इन बल्लेबाजों से अच्छी बल्लेबाजी तो टीम इंडिया का लोअर ऑर्डर कर रहा है जो कम से कम विकेट पर टिकता तो है। भुवनेश्वर कुमार और आर अश्विन की बल्लेबाजी में दूसरे बल्लेबाजों से ज्यादा आत्मविश्वास झलका है।

अंडर 19 विश्व कप: अनुकूल रॉय की शानदार गेंदबाजी की मदद से भारत ने लगातार दूसरी जीत हासिल की
अंडर 19 विश्व कप: अनुकूल रॉय की शानदार गेंदबाजी की मदद से भारत ने लगातार दूसरी जीत हासिल की

3. किस तरह चुनी जा रही है प्लेइंग इलेवन- टीम इंडिया मैदान पर उतरने से पहले ही अपनी हार तय कर रही है और इसकी वजह है उसकी अजीबोगरीब रणनीति। टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली और कोच रवि शास्त्री ने दोनों टेस्ट में बेहद ही अजीब प्लेइंग इलेवन चुनी है। द.अफ्रीका की पिच पर अच्छी बल्लेबाजी करने वाले उप कप्तान अजिंक्य रहाणे को प्लेइंग इलेवन में मौका ही नहीं दिया गया। वहीं पहले टेस्ट में जबर्दस्त गेंदबाजी और बल्लेबाजी करने वाले भुवनेश्वर कुमार की जगह ईशांत शर्मा को मौका दिया गया, जिनका प्रदर्शन हमेशा शांत ही नजर आता है।