India is going through a batting crisis except for Virat Kohli
Dinesh Karthik of India is bowled by Ben Stokes

भारतीय क्रिकेट टीम को शनिवार बर्मिंघम में बेहद हार शर्मनाक मिली। दुनिया की नंबर एक टेस्ट टीम के पांच बल्लेबाज मिलकर जीत के लिए जरूरी 84 रन नहीं बना पाए।

भारतीय टीम ने बर्मिंघम टेस्ट के तीसरे दिन का खेल खत्म होने तक पांच विकेट पर 110 रन बनाए थे। चौथे दिन जीत के लिए 84 रन की लक्ष्य शेष बचा था जबकि भारत के हाथ में पांच विकेट थे। टीम इंडिया चौथे दिन 52 रन ही और जोड़ पाई।

पढ़ें: तीन इंग्लिश प्लेयर ने बना दिया इंग्लैंड का 1000वां टेस्ट यादगार

चौथे दिन जीत का लक्ष्य हासिल करने के लिए योगदान एक बल्लेबाज के हिसाब से 17 रन से भी कम था। नंबर एक टीम होने के लिहाज से यह भारतीय टीम के लिए छोटी सी बात होनी चाहिए थी लेकिन टीम हार गई।

कप्तान विराट कोहली ने दूसरी पारी में 51 रन बनाए जो जीत के लिए काफी नहीं था। ऑल राउंडर हार्दिक पांड्या 31 रन बनाकर आउट हुए। अनुभव और हालिया फॉर्म की दुहाई देकर प्लेइंग इलेवन में खेल रहे दिनेश कार्तिक ने बनाए सिर्फ 20 रन। जब टॉप बल्लेबाज फेल हो जाए तो इशांत शर्मा और मोहम्मद शमी जैसे गेंदबाजों से उम्मीद ही बेमानी है।

पढ़ें: हार के टूटे विराट कोहली बोले, मेरे शतक बनाने का कोई मतलब नहीं

कुल मिलाकर नजीता ये रहा की भारतीय टीम दूसरी पारी में एक बार फिर से नाकाम रही और ढाई दिन का खेल हाथ में रहने के बाद भी 194 का लक्ष्य हासिल नहीं कर पाई।