चेतेश्वर पुजारा ने बनाया शानदार दोहरा शतक © Getty Images
चेतेश्वर पुजारा ने बनाया शानदार दोहरा शतक © Getty Images

भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया रांची टेस्ट का चौथा दिन मेहमान टीम शायद कभी भूल नहीं पाएगी। महेंद्र सिंह धोनी के घरेलू मैदान पर भारतीय टीम की नई दीवार यानि कि चेतेश्वर पुजारा ने इतिहास रच दिया। पुजारा ने रिकॉर्ड 525 गेंदो का सामना किया और भारत के लिए एक पारी में सर्वाधिक गेंदें खेलने वाले बल्लेबाज बन गए। पुजारा ने 21 चौकों की मदद से शानदार दोहरा शतक भी जड़ा। इसके साथ ही एक और भारतीय बल्लेबाज ने आज कमाल का प्रदर्शन किया, वह बल्लेबाज है रिद्धिमान साहा जिन्होंने आज 117 रनों की पारी खेली। रांची टेस्ट का चौथा दिन पूरी तरह से भारत के नाम रहा। अब हम आपको दिन की कुछ बड़ी बातों के बारे में बताएंगे।

चेतेश्वर पुजारा का दोहरा शतक: ऑस्ट्रेलिया के 451 जैसे बड़े स्कोर के सामने भारतीय पारी लड़खड़ा रही थी जब चेतेश्वर पुजारा ने पारी का नेतृत्व संभाला। पुजारा मैच के तीसरे दिन के एल राहुल के आउट होने के बाद मैदान पर आए और दूसरे छोर से लगातार विकेट गिरने के बाद भी खेल खत्म होने तक मैदान पर टिके रहे। पुजारा ने आज रांची के मैदान पर एक बेहतरीन टेस्ट प्लेयर की तरह बल्लेबाजी की। इतनी लंबी पारी में भी उन्होंने कोई रिस्की शॉट नहीं खेला, धैर्य के साथ बल्लेबाजी करते हुए वह धीरे-धीरे मैच को ऑस्ट्रेलिया के पक्ष से खींच लाए। पुजारा ने 192वें ओवर में नाथन लॉयन की तीसरी गेंद पर एक रन के साथ अपना तीसरा दोहरा शतक पूरा किया। पुजारा की इस पारी को देखकर वीवीएस लक्ष्मण और राहुल द्रविड़ जैसे दिग्गज बल्लेबाजों की याद आती है। टीम इंडिया इस समय इस मैच में इस स्थिति पर है जहां से हार असंभव है और टीम को यहां तक लाने का पूरा श्रेय जाता है पुजारा को। साथ ही पुजारा भारत में प्रथम श्रेणी सत्र में 2000 से ज्यादा रन बनाने वाले पहले बल्लेबाज बन गए हैं। [ये भी पढ़ें: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा टेस्ट, चौथा दिन(स्टंप्स): ऑस्ट्रेलिया ने खोए दो शुरुआती विकेट]

रिद्धिमान साहा-जाश हेजलवुड के बीच झड़प: भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया के बीच कोई भी मैच बिना खिलाड़ियों के बीच झड़प के खत्म ही नहीं होता और आज भी कुछ ऐसा ही हुआ। 142वें ओवर में जाश हेजलवुड की दूसरी गेंद पर पुजारा पुल खेलने से चूके और स्मिथ ने पीछे से कैच आउट की अपील। जिसके बाद अंपायर क्रिस गैफनी ने पहले आउट के लिए उंगली ऊपर उठाई लेकिन फिर वह अपनी टोपी ठीक करने लगे।इसी बीच हेजलवुड ने साहा को शॉर्ट गेंद फेंकी, जिसे साहा ने सुरक्षात्मक तरीके से खेल दिया। इसके बाद हेजलवुड ने साहा को लगभग घूरने के अंदाज में आंखें दिखाईं। जिसके बाद साहा ने उन्हें जाने का इशारा किया। बस इसके बाद दोनों खिलाड़ियों के बीच बहस होने लगी। दोनों खिलाड़ी एक दूसरे से बहस करने लगे। इस बीच स्मिथ भी वहीं से गुजरे और पुजारा ने उनसे कुछ कहा, जिसके बाद स्मिथ ने उन्हें उंगली दिखाते हुए कुछ कहा। हालांकि अंपायर के बीच बचाव करने के बाद मामला शांत हो गया।

रिद्धिमान साहा की शतकीय पारी: पुजारा की इस ऐतिहासिक पारी के साथ-साथ रांची के मैदान पर एक और बेहतरीन टेस्ट पारी खेली गई और वह थी रिद्धिमान साहा की। उन्होंने पुजारा के साथ मिलकर पहले दोनों सत्रों में एक भी विकेट नहीं गिरने दिया। साहा ने कल के दिन पुजारा के साथ बनाई साझेदारी को आगे बढ़ाया और 150 के आंकड़े के पार ले गए। उन्होंने सूझ-बूझ से साथ बल्लेबाजी करते हुए शतक जड़ा और पुजारा के आउट होने के बाद भी वह क्रीज पर बने रहे। रवींद्र जडेजा के साथ भी उन्होंने साझेदारी बनाई और भारत का स्कोर 600 के पार पहुंचाया। हालांकि साहा 197वें ओवर में आउट हो गए लेकिन उन्होंने 117 रन की शानदार पारी खेली। [भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें...]

रवींद्र जडेजा का हरफनमौला प्रदर्शन: टीम इंडिया की ओर से सबसे बेहतरीन प्रदर्शन रहा रवींद्र जडेजा ने। जडेजा ने पहले तेज अर्धशतक बनाकर स्कोर को 600 तक पहुंचाया उसके बाद ऑस्ट्रेलिया के दो शुरुआती विकेट लेकर मेहमान टीम को बैकफुट पर ला दिया। जडेजा पुजारा के आउट होने के बाद क्रीज पर आए और पांच चौके और दो छक्कों की मदद से 54 रनों की पारी खेली। इस पारी में जडेजा का स्ट्राइक रेट 98.18 का था। पारी चौके के साथ खत्म होने के बाद जडेजा ने गेंदबाजी की जिम्मेदारी संभाली। जडेजा ने छठे ओवर की पहली गेंद पर डेविड वॉर्नर को बोल्ड आउट किया और भारत को पहली सफलता दिलाई। इसके बाद जडेजा ने नाइट वाचमैन नाथन लॉयन को आठवें ओवर की दूसरी गेंद पर बोल्ड किया। जडेजा के दो विकेटों की मदद से भारत ने मैच में पूरी तरह पकड़ बना ली है।