© Getty Images
© Getty Images

5 जनवरी से टीम इंडिया अपनी सबसे बड़ी अग्निपरीक्षा से गुजरने वाली है। इस दिन टीम इंडिया द.अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट सीरीज का पहला मैच खेलने उतरेगी और ये जंग होगी केपटाउन के न्यूलैंड्स मैदान पर। केपटाउन का ये मैदान टीम इंडिया की चिंता का सबसे बड़ा सबब है, क्योंकि यहां द.अफ्रीकी टीम को हरा पाना लगभग नामुमकिन है। केपटाउन में द.अफ्रीका का रिकॉर्ड बेहद गजब है। यहां इस टीम ने पिछले 11 साल में सिर्फ एक टेस्ट मैच गंवाया है।

केपटाउन में द.अफ्रीका का प्रदर्शन
केपटाउन की तेज- उछाल भरी पिच पर द.अफ्रीका बेहद खतरनाक टीम बन जाती है। द.अफ्रीका ने साल 2006 से लेकर आज तक इस मैदान पर कुल 15 टेस्ट मैच खेले हैं, जिसमें से उसे महज एक टेस्ट मैच में हार मिली है। द.अफ्रीकी टीम ने इस मैदान पर 10 टेस्ट मैच जीते हैं और 4 टेस्ट ड्रॉ रहे हैं। भारत के खिलाफ द.अफ्रीका ने केपटाउन में 4 में से 2 मैच जीते हैं और 2 ड्रॉ रहे हैं। पिछले 11 सालों में द.अफ्रीकी टीम केपटाउन के मैदान पर सिर्फ इंग्लैंड को नहीं हरा सकी है, इसके अलावा उसने भारत, वेस्टइंडीज, ऑस्ट्रेलिया, न्यूजीलैंड जैसी टीमों को मात दी है।

एशेज सीरीज के आखिरी टेस्ट में नहीं खेलेंगे स्टीवन स्मिथ?
एशेज सीरीज के आखिरी टेस्ट में नहीं खेलेंगे स्टीवन स्मिथ?

द.अफ्रीका को ऑस्ट्रेलिया ने हराया है
केपटाउन में वैसे तो द.अफ्रीका का प्रदर्शन बेहद गजब है लेकिन पिछले 11 साल में उसे इस मैदान पर हराने वाली एकलौती टीम ऑस्ट्रेलिया है। ऑस्ट्रेलिया ने साल 2014 में द.अफ्रीका को केपटाउन में 245 रनों से करारी मात दी थी। इस मुकाबले में ऑस्ट्रेलिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए 494 रन बनाए थे, जिसमें डेविड वॉर्नर ने 135 और उस वक्त के कप्तान माइकल क्लार्क ने 161 रनों की पारी खेली थी। द.अफ्रीकी टीम पहली पारी में सिर्फ 287 रनों पर ऑल आउट हो गई थी। ऑस्ट्रेलिया की ओर से मिचेल जॉनसन ने 4, रेयान हैरिस ने 3 और पैटिंसन ने 2 विकेट लिए थे। इसके बाद दूसरी पारी में एक बार फिर वॉर्नर ने 145 रनों की पारी खेल ऑस्ट्रेलिया को द.अफ्रीका से 510 रन आगे पहुंचा दिया था जिसके बाद दूसरी पारी में मेजबान टीम सिर्फ 265 रनों पर ऑल आउट हो गई थी।