India vs South Africa, 4th ODI, statistical preview: Visitors aim historic win in Johannesburg
टीम इंडिया © AFP

दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट सीरीज हारने के बाद टीम इंडिया ने वनडे सीरीज में धमाकेदार वापसी की। सीरीज के पहले तीन वनडे मैच लगातार जीतने के बाद भारतीय टीम जोहान्सबर्ग में सीरीज पर कब्जा करने उतरेगी। आईसीसी वनडे रैंकिंग में नंबर एक पर मौजूद टीम इंडिया के लिए दक्षिण अफ्रीका की जमीन पर ये पहली द्विपक्षीय सीरीज जीत होगी। भारत ने आज कर दक्षिण अफ्रीका दौरे पर एक भी वनडे सीरीज नहीं जीती है। दक्षिण अफ्रीका दौरे की शुरुआत में भारत का जीत-हार प्रतिशत 0.24 था, जो अब बढ़कर 0.38 हो गया है। टीम इंडिया ने यहां केवल 5 मैच जीते हैं जबकि 21 मैचों में भारत को हार का सामना करना पड़ा है। जोहान्बर्ग के न्यू वांडरर्स स्टेडियम में जीत हासिल करते ही भारत वनडे सीरीज पर 4-0 से कब्जा कर लेगा। आइए जोहान्बर्ग वनडे पर बनने वाले रिकॉर्डों पर नजर डालते हैं।

न्यू वांडरर्स स्टेडियम पर टीम इंडिया ने 3 मैच जीते हैं और 4 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा। भारत का 0.75 का जीत प्रतिशत सही माना जाएगा। वहीं दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ इस मैदान पर खेले 4 मैचों में टीम इंडिया 3 मैच हारी है और केवल एक में जीत दर्ज कर सकी है। वो जीत भी भारत ने 1 रन के अंतर से हासिल की थी। हालांकि भारत ने हाल ही में टेस्ट सीरीज का आखिरी मैच इसी मैदान पर जीता है। न्यू वांडरर्स मैदान पर दक्षिण अफ्रीका (3) का जीत-हार प्रतिशत भारत (0.75) से कहीं बेहतर है। दक्षिण अफ्रीका ने भारत के खिलाफ इस मैदान पर 3 वनडे मैच जीते हैं।

दक्षिण अफ्रीका में खेली द्विपक्षीय वनडे सीरीज में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले स्पिन गेंदबाज कीथ आर्थरटन (12) हैं। टीम इंडिया के रिस्ट स्पिनर युजवेंद्र चहल इस सीरीज में अब तक 11 विकेट ले चुके हैं, वहीं कुलदीप यादव के नाम 10 विकेट हैं। ऐसे में दोनों में से कोई एक स्पिनर जोहान्सबर् वनडे में कीथ का रिकॉर्ड अपने नाम कर सकता है।

टीम इंडिया के चाइनामैन गेंदबाज कुलदीप यादव अब तक कुल 32 वनडे विकेट ले चुके हैं। कुलदीप को माइकल बेवन को पीछे छोड़ दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले चाइनामैन गेंदबाज बनने के लिए 5 और विकटों की जरूरत है। ब्रैड हॉग 156 विकेटों के साथ इस सूची में नंबर एक पर हैं, जहां तक पहुंचा कुलदीप के लिए काफी मुश्किल हैं।

महेंद्र सिंह धोनी अब भी वनडे में 10,000 रनों के आंकड़े से 88 रन दूर हैं। धोनी (9,912) ने केपटाउन वनडे में केवल 10 रन बनाए थे। धोनी अगर जोहान्बर्ग में 88 रनों की पारी खेल जाते हैं तो वो वनडे में 10,000 रन बनाने वाले चौथे भारतीय और 12वें क्रिकेटर बन जाएंगे। साथ ही धोनी ऐसा करने वाले दुनिया के पहले विकेटकीपर बल्लेबाज बन जाएंगे। श्रीलंका के कुमार संगाकारा ने भी वनडे में 10,000 का आंकड़ा पारस किया है लेकिन उन्होंने अपने कुल 14,234 वनडे रनों में से 13,341 बतौर विकेटकीपर बनाए हैं। जबकि धोनी ने सारे मैच बतौर विकेटकीपर बल्लेबाज ही खेले हैं।

धोनी के अलावा टीम इंडिया के नए चौथे नंबर के बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे भी एक बड़े कीर्तिमान से 88 रन दूर हैं। रहाणे जोहान्सबर्ग में 88 रन बनाकर वनडे में 3,000 का आंकड़ा पार कर लेंगे। रहाणे ऐसा करने वाले 20वें भारतीय बल्लेबाज होंगे।

जोहान्सबर्ग वनडे भारतीय सलामी बल्लेबाज शिखर धवन के करियर का 100वां वनडे मैच होगा। धवन भारत के लिए 100 वनडे मैच खेलने वाले 34वें क्रिकेटर बनेंगे। 99 वनडे मैचों के बाद धवन के बनाए 4,200 रन किसी भी भारतीय खिलाड़ी के लिए 99 वनडे मैचों के बाद बनाए सबसे ज्यादा रन हैं।

धोनी ने टीम इंडिया के लिए खेलते हुए वनडे में बतौर विकेटकीपर अब तक कुल 395 डिसमिसल (292 कैच, 103 स्टंपिंग) किए है। भारत के लिए 400 डिसमिसल पूरे करने के लिए धोनी को अभी 5 और डिसमिसल करने होंगे। जिसके बाद वो वनडे में 400 डिसमिसल करने वाले पहले भारतीय बन जाएंगे।

दक्षिण अफ्रीका के विस्फोटक बल्लेबाज डेविड मिलर अपने 50 वनडे कैच पूरे करने से एक कदम दूर हैं। ऐसा करते ही मिलर वनडे में 50 कैच लेने वाले 12वें दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर बन जाएंगे।