© AFP
© AFP

भारतीय टीम दिल्ली टेस्ट जीतने में नाकाम रही। टेस्ट मैच के आखिरी दिन लाख कोशिशों के बावजूद श्रीलंकाई बल्लेबाज टस से मस नहीं हुए और टेस्ट ड्रॉ हो गया। बहरहाल, इसके बावजूद टीम इंडिया ने यह टेस्ट सीरीज 1-0 से जीत ली। इसके साथ ही टीम इंडिया के साथ कई खिलाड़ियों ने बड़े-बड़े रिकॉर्ड्स अपने नाम कर लिए। कौन हैं ये रिकॉर्ड्स। आइए नजर डालते हैं।

- टीम इंडिया की ये लगातार 9वीं टेस्ट सीरीज जीत है। इस तरह से टीम इंडिया ने टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे ज्यादा बार लगातार टेस्ट सीरीज जीतने के इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। इंग्लैंड ने इस कारनामे को अंजाम साल 1884 से 1891-92 के बीच दिया था। वहीं ऑस्ट्रेलिया ने साल 2005-06 से 2008 के बीच इस कारनामे को अंजाम दिया था।

- श्रीलंका इस टेस्ट सीरीज में एक भी टेस्ट नहीं जीत पाई। इस तरह से वह दुनिया की एकमात्र टीम बन गई है जिसने किसी देश में लगातार 20 टेस्ट खेलने के बाद कोई भी टेस्ट न जीता हो। उन्होंने पिछले 20 टेस्ट मैचों में 12 हारे हैं और 8 ड्रॉ रहे हैं।

- टीम इंडिया ने फिरोजशाह कोटला में 14 टेस्ट मैच जीते हैं। ये टीम इंडिया के द्वारा भारत के किसी भी मैदान पर जीते गए सबसे ज्यादा मैच हैं। यहां के अलावा वे चेन्नई के चेपक स्टेडियम में भी 14 मैच जीत चुके हैं।

- विराट कोहली ने अपने 5,000 टेस्ट रन बनाने के लिए 105 पारियां खेलीं हैं। वह इस कारनामे को सबसे तेजी से मुकम्मल करने वाले तीसरे भारतीय बने। उनके ऊपर सुनील गावस्कर (95 पारी) और सचिन तेंदुलकर (103 पारी) हैं।

- विराट कोहली ने कोटला टेस्ट में 293 रन बनाए (243 और 50), जो किसी भी भारतीय कप्तान के द्वारा एक टेस्ट मैच में बनाए गए सबसे ज्यादा रन हैं। इस दौरान कोहली ने सुनील गावस्कर को पीछे छोड़ दिया जिन्होंने साल 1978-79 में वेस्टइंडीज के खिलाफ 289 (107 और 182*) रन बनाए थे।

- विराट कोहली के पहले 6 कप्तानों ने एक ही मैच में दोहरा शतक और अर्धशतक जमाए हैं। जिनमें से मार्क टेलर के नाम तिहरा शतक और अर्धशतक है। जबकि ग्राहम गूच के नाम तिहरा शतक और शतक है।

- कोहली ने इस सीरीज में 610 रन बनाए। जो 3 मैचों की टेस्ट सीरीज में चौथे नंबर पर सबसे ज्यादा रन हैं। उनसे आगे गूच (752 बनाम भारत 1990), ब्रायन लारा (688 बनाम श्रीलंका 2001-02) और मोहम्मद यूसुफ (665 बनाम वेस्टइंडीज 2006-07) हैं।

- विराट कोहली के नाम अब 6 दोहरे शतक हैं। इस तरह से वह भारतीयों के बीच संयुक्त रूप से पहले नंबर पर पहुंच गए हैं। सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग के नाम 6-6 दोहरे शतक हैं। वहीं दुनिया की बात करें तो उनसे आगे डॉन ब्रैडमैन (12), कुमार संगकारा (11), ब्रायन लारा (9), वैली हैमंड (7) और महेला जयवर्धने (7) हैं। वहीं मर्वन अट्टापट्टू, जावेद मियांदाद, रिकी पोंटिंग, और यूनिस खान के नाम 6-6 दोहरे शतक हैं।

- विराट कोहली के अलावा अन्य किसी के नाम कप्तान के तौर पर 6 दोहरे शतक नहीं है। इस तरह से वह पहले नंबर पर हैं।

श्रीलंका टीम से बाहर चल रहे इस खिलाड़ी को विराट कोहली ने भेजा गिफ्ट
श्रीलंका टीम से बाहर चल रहे इस खिलाड़ी को विराट कोहली ने भेजा गिफ्ट

- साल 2017 में टेस्ट में सबसे ज्यादा रन बनाने के मामले में चेतेश्वर पुजारा ने द. अफ्रीका के डीन एल्गर को पीछे छोड़ दिया। उनके नाम 1,140 रन हैं। पुजारा ने एल्गर (1,097) को पीछे छोड़ दिया। अन्य तीन बल्लेबाज जिन्होंने मौजूदा साल में 1,000 रन पूरे किए वे सभी इस सीरीज में खेले। ये तीनों विराट कोहली (1,059), दिमुत करुणारत्ने (1,031) और दिनेश चांदीमल (1,003) रहे।

- दिलरुवान परेरा ने अपने 100 विकेट पूरे किए। वह श्रीलंका की ओर से सबसे तेजी से 25 पारियों में 100 विकेट झटकने वाले गेंदबाज बने। उन्होंने इस दौरान मुथैया मुरलीधरन को पीछे छोड़ दिया।

- टेस्ट क्रिकेट में शिखर धवन के नाम अब 2,014 रन हो गए हैं। वह यह कारनामा करने वाले 37वें भारतीय और 303वें खिलाड़ी बने।

- दिल्ली टेस्ट में 164 रनों की पारी खेलने वाले दिनेश चांदीमल का 164 सर्वोच्च स्कोर है। उनका इसके पहले सर्वोच्च स्कोर 162* था जो उन्होंने साल 2015 में ही भारत के खिलाफ गॉल में बनाया था।

- रोशन सिल्वा ने अपने पहले ही मैच में नाबाद 74 रनों की पारी खेली। वह श्रीलंका की ओर से नंबर 7 पर डेब्यू करते हुए सर्वोच्च स्कोर बनाने वाले तीसरे सर्वोच्च स्कोरर बन गए हैं। उनके पहले रॉमेश कालूवितारना (132*), और चामरा दुनुसिंघे (91) ने उनसे ज्यादा रन बनाए हैं।

- धनंजय डी सिल्वा दिल्ली टेस्ट की चौथी पारी में शतक बनाने के बाद रिटायर्ड हो गए थे। चौथी पारी में रिटायर्ड होने वाले वह श्रीलंका के पहले क्रिकेटर हैं।