© AFP
© AFP

कहते हैं कि कैच पकड़ो और मैच जीतो लेकिन मौजूदा सीरीज में श्रीलंका टीम की कहानी कुछ और ही नजर आ रही है। पहले से ही सीरीज के दो टेस्ट हारकर 2-0 से पिछड़ चुकी श्रीलंका एक बार फिर से पल्लेकेले टेस्ट में भी पिछले कदमों पर खड़ी नजर आ रही है। श्रीलंका ने इस सीरीज में अबतक टीम इंडिया के बड़े-बड़े बल्लेबाजों के कई कैच टपकाए हैं। खामियाजन इन्हीं बल्लेबाजों ने बड़ी पारियां खेलीं और श्रीलंका टीम की बखिया उधेड़ दी।

गॉल टेस्ट: इसकी कहानी पहले टेस्ट से शुरू होती है। पहले टेस्ट में जब शिखर धवन 31 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे तब स्लिप में एसेला गुणारत्ने ने उनका कैच छोड़ दिया था। इस कैच का शिखर धवन ने खूब फायदा उठाया और आखिरकार 190 रन ठोंक डाले। यही 190 रनों की पारी श्रीलंका को भारी पड़ी और पहला टेस्ट टीम इंडिया ने बड़ी आसानी से जीत लिया। इसी टेस्ट में हार्दिक पांड्या का कैच करुणारत्ने ने 4 रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर छोड़ा था। बाद में पांड्या ने कैच का खूब फायदा उठाया और 50 रन बनाए। यह हार्दिक पांड्या का पहला टेस्ट था।

कोलंबो टेस्ट: यही कहानी दूसरे टेस्ट में भी रही। दूसरे टेस्ट में अजिंक्य रहाणे ने चेतेश्वर पुजारा के साथ मिलकर खूब गदर मचाया। लेकिन जब रहाणे 80 रनों पर बल्लेबाजी कर रहे थे तभी मलिंडा पुष्पाकुमारा ने उनका कैच छोड़ दिया था। उन्होंने इस कैच का फायदा उठाते हुए अपना शतक पूरा किया और अगले दिन 132 रन बनाकर आउट हुए। यही नहीं इसी टेस्ट में रविंद्र जडेजा का कैच 33 रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर डी सिल्वा ने छोड़ा था। बाद में वह 70 रन बनाकर नाबाद रहे थे। उन्होंने टीम इंडिया की पहाड़ जैसा स्कोर खड़ा करने में मदद की थी।  [भारत बनाम श्रीलंका, तीसरा टेस्ट, दूसरा दिन, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें]

पल्लेकेले टेस्ट: पल्लेकेले टेस्ट में टीम इंडिया की पहली पारी में ही श्रीलंका टीम ने कई महत्वपूर्ण कैच छोड़े और अपनी रही सही कमर खुद ही तोड़ ली। शिखर धवन का कैच कुसल मेंडिस ने उस वक्त छोड़ दिया था जब वह 1 रन पर बल्लेबाजी कर रहे थे। उसके बाद उन्होंने 119 रन बनाए और श्रीलंका टीम को करारा जवाब दिया। इसके अलावा दूसरे ओपनर केएल राहुल का भी 28 रनों के व्यक्तिगत स्कोर पर लाहिरु कुमारा ने कैच छोड़ा था।

बाद में उन्होंने 85 रनों की पारी खेली। जवाब में टीम इंडिया तीसरे टेस्ट की पहली पारी में भी बड़े स्कोर की ओर जाती नजर आ रही है फर्ज कीजिए कि राहुल और धवन सस्ते में आउट हो गए होते तो टीम इंडिया का पल्लेकेले टेस्ट में क्या हाल होता। बहरहाल, श्रीलंका टीम को अपने फील्डिंग विभाग में सुधार करने की बहुत जरूरत है।