India’s biggest win against South Africa in South Africa; Other statistical highlights from Cape Town ODI
© AFP

केपटाउन में खेले गए तीसरे वनडे में टीम इंडिया ने दक्षिण अफ्रीका को 124 रनों से हराकर सीरीज में 3-0 की बढ़त हासिल कर ली है। रनों के मामले में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दक्षिण अफ्रीकी में ये भारत की सबसे बड़ी जीत है। कप्तान विराट कोहली के धमाकेदार शतक की मदद से टीम इंडिया के बनाए 303 रनों के जवाब में मेजबान टीम केवल 179 रनों पर सिमट गई। एक बार फिर भारतीय रिस्ट स्पिनर युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव का जलवा कायम रहा। यादव ने 9 ओवर में 23 रन देकर चार विकेट लिए, वहीं चहल ने भी 9 ओवर में 46 रन देकर 4 विकेट झटके। आइए भारत की इस शानदार जीत से जुडे़ कुछ आंकड़ों पर नजर डालते हैं।

केपटाउन वनडे में कुलदीप और चहल ने मिलकर विपक्षी टीम के कुल 8 विकेट लिए। इस मैच में ऐसा पहली बार हुआ है जब भारत के दो स्पिनरों में किसी वनडे मैच में 4 से ज्यादा विकेट लिए हैं। विश्व क्रिकेट की बात करें तो ये पांचवां ऐसा मैच है।

रिस्ट स्पिनर युजवेंद्र चहल ने इस चार विकेट हॉल के साथ इस सीरीज में अपने 10 विकेट पूरे कर लिए हैं, जबकि सीरीज के 3 मैच अभी बाकी हैं। गौरतलब है कि दक्षिण अफ्रीका के किसी भी स्पिन गेंदबाज ने द्विपक्षीय वनडे सीरीज में कभी भी 10 से ज्यादा विकेट नहीं लिए हैं। 2016-17 सीजन में इमरान ताहिर ने श्रीलंका के खिलाफ वनडे सीरीज में 10 विकेट लिए थे।

केपटाउन वनडे: कुलदीप-चहल के सामने फिर ढेर हुई दक्षिण अफ्रीका, भारत 124 रनों से जीता
केपटाउन वनडे: कुलदीप-चहल के सामने फिर ढेर हुई दक्षिण अफ्रीका, भारत 124 रनों से जीता

चहल और कुलदीप किसी भी वनडे मैच में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले रिस्ट स्पिनर गेंदबाजों की सूची में दूसरे नंबर पर हैं। दोनों ने केपटाउन वनडे में कुल 8 विकेट लिए हैं, वहीं 2016 में वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे मैच में 9 विकेट लेकर इमरान ताहिर और तबरेज शमसी इस मामले में नंबर एक पर हैं। गौरतलब है कि सेंचुरियन में हुए दूसरे वनडे में भी चहल और कुलदीप ने मिलकर 8 विकेट चटकाए थे।

ये दूसरा मौका है जब दक्षिण अफ्रीका घरेलू वनडे सीरीज में 0-3 से पिछड़ रही है। इससे पहले प्रोटियाज टीम साल 2002 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज में लगातार तीन वनडे मैच हारी थी।