IPL 2018: 5 Teams who never won a tittle
आईपीएल ट्रॉफी © BCCI

साल 2008 में एक प्रयोग की तरह शुरू हुआ इंडियन प्रीमियर लीग आज भारत की सबसे मशहूर क्रिकेट लीग बन चुका है। दुनिया भर के क्रिकेट सितारों से सजा ये टूर्नामेंट अपने दस साल पूरे कर चुका है और 11वां सीजन बस शुरू ही होने वाला है। आईपीएल के हर सीजन में कम से कम आठ टीमें हिस्सा लेती हैं, हालांकि हर सीजन में टीमों में बदलाव होता रहा है लेकिन कई टीमें हैं, जिन्होंने पूरे 10 सीजन खेले हैं। वैसे अगर सभी दसों सीजन पर गौर करें तो आईपीएल का खिताब कुछ ही फ्रेंचाइजियों (मुंबई, चेन्नई, कोलकाता, हैदराबाद) के बीच घूमता रहा है और कुछ बेचारी टीमें दस सीजन खेलने के बाद भी एक अदद खिताब को तरस रही हैं। आइए जानते हैं उन पांच बदकिस्मत टीमों के बारे में।

रॉयल चैलेंजर्स बैगलोर: अगर कोई टीम आईपीएल में सबसे ज्यादा बुरी किस्मत का शिकार रही है, तो वो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर है और इस बात पर किसी को भी शक नहीं होगा। बैंगलोर फ्रेंंचाइजी पहले सीजन से टूर्नामेंट का हिस्सा है और अपने दस सीजन पूरे कर चुकी है लेकिन आज तक एक भी खिताब नहीं जीत पाई है। बैंगलोर टीम अकेली ऐसी टीम है जिसने पांच बार प्लेऑफ में जगह बनाई है लेकिन कभी फाइनल नहीं जीता। अगर खिलाड़ियों पर गौर किया जाय तो बैंगलोर हर सीजन में आईपीएल की सबसे मजबूत टीम रही है। विराट कोहली, एबी डी विलियर्स, क्रिस गेल, शेन वाटसन जैसे दिग्गज खिलाड़ी इस टीम का हिस्सा रहे हैं लेकिन फिर भी ट्रॉफी कैबिनेट अभी खाली है। साल 2016 में बैंगलोर टीम ट्रॉफी के बेहद करीब पहुंची थी लेकिन कोहली की टीम को सनराइजर्स हैदराबाद के हाथों फाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

दिल्ली डेयरडेविल्स: दिल्ली फ्रेंचाइजी में आईपीएल के हर सीजन का हिस्सा रही है। डेयरडेविल्स टीम में भी बैंगलोर की तरह कई बड़े सितारे शामिल रहे हैं लेकिन इसके साथ ही दिल्ली फ्रेंचाइजी ने युवा खिलाड़ियों को भी मौके दिए हैं। संजू सैमसन, ऋषभ पंत, श्रेयस अय्यर, आदित्य तरे और नवदीप सैनी जैसे युवा खिलाड़ियों ने इस टीम के जरिए अपनी पहचान बनाई है। शुरूआती आईपीएल सीजन में दिल्ली अंकतालिका में टॉप चार टीमों में रही है। साल 2009 औ 2012 में तो दिल्ली नंबर एक पर थी लेकिन तीन बार प्लेऑफ में पहुंचने के बावजूद खिताब जीतने का डेयरडेविल्स का सपना अभी पूरा नहीं हुआ है। 11वें सीजन में दिल्ली डेयरडेविल्स टीम में गौतम गंभीर की वापसी हुई है। गंभीर की कप्तानी में कोलकाता टीम दो आईपीएल खिताब जीत चुकी है, ऐसे में उम्मीद है कि वो दिल्ली को पहली खिताबी जीत दिला पाएंगे।

किंग्स इलेवन पंजाब: प्रीति जिटां की इस टीम को आईपीएल में अब तक हैप्पी एंडिग नहीं मिल पाई है। वैसे तो किंग्स इलेवन पंजाब केवल दो बार ही प्लेऑफ में पहुंची है लेकिन इसमें से एक बार टीम ने फाइनल में जगह बनाई थी। साल 2014 में पंजाब टीम लगातार अच्छा प्रदर्शन कर अंकतालिका में नंबर एक पर पहुंच गई थी लेकिन फाइनल में उसे कोलकाता नाइट राइडर्स  के खिलाफ हार का सामना करना पड़ा।

राइजिंग पुणे सुपरजायंट: जहां एक तरफ 10-10 सीजन खेल चुकी टीमें एक भी खिताब नहीं जीत पाई हैं, वहीं दो सीजन खेलने वाली राइजिंग पुणे सुपरजायंट से उम्मीद करने बेमानी होगा। हालांकि 2016 में आईपीएल में शामिल हुई इस टीम में पिछले सीजन में सभी को प्रभावित किया था। स्टीवन स्मिथ की कप्तानी में पुणे टीम ने पहली बार प्लेऑफ और फिर फाइनल में जगह बनाई थी। हालांकि रोमांचक मुकाबले में पुणे टीम मुंबई के खिलाफ केवल एक रन से हार गई थी।

गुजरात लायंस: पुणे सुपरजायंट के साथ आईपीएल में शामिल होने वाली दूसरी टीम गुजरात लायंस ने भी आईपीएल खिताब नहीं जीता है। सुरेश रैना की कप्तानी में नौवें सीजन में लायंस ने धमाल मचा दिया था। अपने पहले ही सीजन में लगातार अच्छा प्रदर्शन कर गुजरात टीम ने प्लेऑफ में जगह बनाई थी। हालांकि टीम क्वालियफायर और फिर एलिमिनेटर में लगातार हारकर खिताबी दौड़ से बाहर हो गई।