IPL 2018: Is Delhi Daredevils persistence with Glenn Maxwell costing them?
ग्लेन मैक्सवेल © AFP

इंडियन प्रीमियर लीग के 36वें मैच में सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 7 विकेट से हारकर दिल्ली डेयरडेविल्स प्लेऑफ की दौड़ से लगभग बाहर हो गई है। श्रेयस अय्यर, ऋषभ पंत और पृथ्वी शॉ जैसे बल्लेबाज होने के बावजूद दिल्ली टीम 10 में 7 मैच हाकर अंकतालिका में सातवें नंबर पर है। हैदराबाद के खिलाफ शनिवार को खेले गए मैच में मिली हार के बाद दिल्ली डेयरडेविल्स के ग्लेन मैक्सवेल को खराब प्रदर्शन के बाद भी लगातार मौके देने के फैसले पर सवाल उठ रहे हैं।

जेसन रॉय, कॉलिन मुनरो के बजाय ग्लेन मैक्सवेल को सलामी बल्लेबाजों क्यों दी

IPL 2018: मुंबई इंडियंस के अभेद किले को ध्वस्त करने उतरेगी कोलकाता नाइटराइडर्स
IPL 2018: मुंबई इंडियंस के अभेद किले को ध्वस्त करने उतरेगी कोलकाता नाइटराइडर्स

मैक्सवेल ने आईपीएल के 11वें सीजन में अब तक खेले 9 मैचों में 14.77 की औसत से केवल 133 रन बनाए हैं। दिल्ली टीम ने मैक्सवेल को मध्य क्रम में लगातार मौके देने के बाद हैदराबाद के खिलाफ मैच में सलामी बल्लेबाजी के लिए उतारा था लेकिन उनका ये दांव भी फेल रहा। टीम में गौतम गंभीर, जेसन रॉय और कॉलिन मुनरो के होने के बावजूद मैक्सवेल से पारी की शुरुआत करने का फैसला किसी को समझ नहीं आया। मैक्सवेल को अब तक 9 मैचों में खेलने का मौका दिया गया है, जबकि जेसन रॉय को केवल 3 और मुनरो को 5 ही मैच में खिलाया गया है। मुनरो ने तीन मैचों में 48.50 की औसत से 97 रन बनाए हैं, जिसमें 91 रनों की एक पारी भी शामिल है। वहीं मुनरो ने 5 मैचों में 12.60 की औसत से 63 रन बनाए हैं। हालांकि उनकी इस पारी की मदद से दिल्ली डेयरेडेविल्स श्रेयस अय्यर की कप्तानी में पहली जीत दर्ज की थी।

गंभीर के साथ दोहरा रवैया क्यों

दिल्ली टीम ने जिस तरह का भरोसा मैक्सवेल के साथ दिखाया है, उतना पूर्व कप्तान गौतम गंभीर पर नहीं दिखा पाए। गंभीर को 6 मैचों के टीम के खराब प्रदर्शन के बाद ना केवल कप्तानी से हटना पड़ा, बल्कि उन्हें उसके बाद से ही प्लेइंग इलेवन में खेलने का मौका भी नहीं मिला है। गंभीर को प्लेइंग इलेवन से बाहर करने के बाद से ही दिल्ली डेयरडेविल्स टीम सलामी जोड़ी में लगातार बदलाव कर रही है। ऐसे में सवाल ये है कि अगर दिल्ली कोई सही सलामी बल्लेबाज नहीं ढूंढ पा रही है तो गंभीर को ही वापस टीम में शामिल क्यों नहीं किया जा रहा है।