IPL 2018: Is Rajasthan Royals over dependent on foreign players?
जोफ्रा ऑर्चर © IANS

खराब शुरुआत के बाद पिछले तीन मैचों में लगातार जीत हासिल कर राजस्थान रॉयल्स इंडियन प्रीमियर लीग के प्लेऑफ में जगह बनाने की दावेदार टीमों में शामिल हो गई है। अजिंक्य रहाणे की कप्तानी में दो साल बाद टूर्नामेंट में वापसी कर रही राजस्थान फिलहाल 12 में से 6 मैच जीतकर अंकतालिका में पांचवें नंबर पर है। आखिर पिछले कुछ मैचों में ऐसा क्या हुआ, जिससे राजस्थान टीम के प्रदर्शन में बदलाव आया है। पिछले तीनों मैच जो राजस्थान टीम ने जीते हैं, अगर उन पर गौर किया जाय तो उनसे एक ही चीज समान है, और वो है जोस बटलर। बटलर ने पिछले तीनों मैचों में (82, 95, 94) बड़ी पारियां खेले हैं और मैन ऑफ द मैच रहे हैं।

IPL 2018: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ जीत के इरादे से उतरेगी किंग्स इलेवन पंजाब
IPL 2018: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ जीत के इरादे से उतरेगी किंग्स इलेवन पंजाब

जोस बटलर फिलहाल आईपीएल 11 में राजस्थान के लिए सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। बटलर ने 12 मैचों में 153.77 की स्ट्राइक रेट से 509 रन बनाए हैं। पूरी टीम में उनके आस पास भी कोई दूसरा बल्लेबाज नहीं है। राजस्थान रॉयल्स के दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज संजू सैमसन है। सैमसन ने 12 मैचों में 379 रन बनाए हैं, शुरुआती मैचों में गजब का फॉर्म दिखाने के बाद पिछले कुछ मैचों से सैमसन 20-25 रनों की पारियां खेल रहे हैं। ऐसे में टीम की बल्लेबाजी काफी हद तक जोस बटलर पर निर्भर है।

केवल बल्लेबाजी ही नहीं बल्कि गेंदबाजी अटैक में भी विदेशी खिलाड़ियों का प्रदर्शन ज्यादा बेहतर रहा है। 11वें सीजन में राजस्थान रॉयल्स के सबसे सफल गेंदबाज जोफ्रा ऑर्चर है, जिन्होंने केवल 7 मैचों 13 विकेट झटके हैं। घरेलू खिलाड़ियों की बात करें 12 मैचों में जयदेव उनादकट ने 9 और कृष्णप्पा गौतम ने 8 विकेट लिए हैं। ऐसे में सवाल ये उठता है कि क्या राजस्थान रॉयल्स टीम विदेशी खिलाड़ियों के ही भरोसे है। प्लेऑफ से कुछ दूर खड़ी राजस्थान केवल दो विदेशी खिलाड़ियों के दम पर खिताब नहीं जीत सकती है। ऐसे में कप्तान रहाणे, संजू सैमसन, उनादकट और बाकी घरेलू खिलाड़ियों को आगे आकर मैचविनिंग प्रदर्शन करना होगा।