IPL 2018: Players who got better after changing teams

इंडियन प्रीमियर लीग ने कई खिलाड़ियों रातों रात स्टार बनाया है, वहीं कई खिलाड़ी इस चमक धमक भरे टूर्नामेंट में गुम हो गए। वहीं कुछ खिलाड़ी ऐसे में हैं जो किसी एक टीम के लिए पूरी तरह फ्लॉप रहे और फिर दूसरी टीम में आते ही शानदार प्रदर्शन करने लगे। आज हम ऐसे ही कुछ खिलाड़ियों की बात करेंगे, जिनकी किस्मत जर्सी का रंग बदलने के साथ ही बदल गई।

दीपक चहर: साल 2012 में आईपीएल डेब्यू करने वाले दीपक चहर का नाम आपने 11वें सीजन में ही ज्यादा सुना होगा। चहर ने इस सीजन चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलते हुए 7 मैचों मे ं7.98 की इकॉनामी रेट से 6 विकेट लिए हैं। चहर के लिए चेन्नई सुपर किंग्स टीम लकी रही, इससे पहले वो राजस्थान रॉयल्स और फिर राइजिंग पुणे सुपरजायंट के लिए भी खेल चुके हैं लेकिन उन्हें कभी भी 2 या 3 से ज्यादा मैच खेलने का मौका ही नहीं मिला और उनमे भी वो फेल रहे। फिलहाल चहर चोट के चलते दो हफ्ते के लिए खेल से दूर हैं लेकिन सीएसके में आकर उन्हें वो पहचान मिल चुकी है, जिसकी उन्हें जरूरत थी।

अंकित राजपूत: कानपुर जैसे छोटे शहर से आए अंकित राजपूत ने 11वें आईपीएल सीजन का पहला पांच विकेट हॉल लेकर धमाल मचा दिया है। राजपूत ने किंग्स इलेवन पंजाब के लिए खेलते हुए सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ मैच में ये कारनामा किया। इस मैच के बाद ही सोशल मीडिया पर अंकित का नाम ट्रेंड करने लगा। इससे पहले इस तेज गेंदबाज ने चेन्नई सुपर किंग्स और कोलकाता नाइट राइडर्स जैसे बड़ी टीमों के लिए आईपीएल खेला है लेकिन उन्हें कभी वो सफलता नहीं मिली जो अब मिल रही है।

IPL 2018: चेन्नई सुपर किंग्स के अनुभव से टकराएगी दिल्ली डेयरडेविल्स की प्रतिभा
IPL 2018: चेन्नई सुपर किंग्स के अनुभव से टकराएगी दिल्ली डेयरडेविल्स की प्रतिभा

आवेश खान: पिछले आईपीएल सीजन में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर में शामिल आवेश खान को केवल एक ही मैच खेलने का मौका मिला था लेकिन 11वें सीजन की नीलामी में दिल्ली डेयरडेविल्स ने उन्हें खरीदा और आवेश की किस्मत चमक गई। आवेश ने कोलकाता नाइट राइडर्स के खिलाफ मैच में आंद्रे रसेल और नितीश राणा जैसे बल्लेबाजों को आउट कर सभी को प्रभावित किया। आवेश ने दिल्ली के लिए 2 मैचों में 4 विकेट झटके हैं।

उमेश यादव: टीम इंडिया के प्रमुख गेंदबाज उमेश यादव पिछले दस सालों से आईपीएल खेल रहे हैं लेकिन 11वें सीजन में उन्होंने दर्शकों को काफी प्रभावित किया है। दिल्ली डेयरडेविल्स और फिर कोलकाता नाइटराइडर्स के लिए खेलते हुए यादव कभी प्रमुख गेंदबाज के रूप में नजर नहीं आए लेकिन इस सीजन रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेलते हुए उमेश आगे बढ़कर पेस अटैक की अगुवाई कर रहे हैं। अब तक खेले 7 मैचों में उन्होंने 9 विकेट लिए हैं और इस सीजन उन्होंने अपने 100 आईपीएल विकेट भी पूरे किए हैं।


अंबाती रायुडू: मुंबई इंडियंस के साथ कई आईपीएल सीजन खेलने के बाद भी अंबाती रायुडू को वो पहचान नहीं मिली थी जो उन्हें इस सीजन चेन्नई सुपर किंग्स के लिए खेलते हुए मिली है। रायुडू ने सीएसके के लिए अब तक खेले 7 मैचों में 329 रन बनाए हैं और फिलहाल ऑरेंज कैप की रेस में बने हुए हैं। इस सीजन रायुडू 154.46 की स्ट्राइक रेट से बल्लेबाजी कर रहे हैं जो आईपीएल में उनका सर्वाधिक है।

केएल राहुल: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के साथ खेले चार सीजन में कुल चार अर्धशतक बनाने वाले केएल राहुल ने 11वें सीजन में किंग्स इलेवन पंजाब के लिए 7 मैचों में ही 2 अर्धशतक जड़ दिए हैं। जिसमें से एक 14 गेंदो पर बनाया गया आईपीएल इतिहास का सबसे तेज अर्धशतक भी शामिल है। राहुल 7 मैचों में 268 बनाकर टॉप 5 बल्लेबाजों की लिस्ट में जगह बनाए हुए हैं और इस सीजन ऑरेंज कैप के प्रबल दावेदार हैं।