नीतीश राणा के कोच हैं संजय भारद्वाज
नीतीश राणा के कोच हैं संजय भारद्वाज

मुंबई इंडियंस के बल्लेबाज नीतीश राणा ने आईपीएल के 10वें सीजन में धूम मचा रखी है। ऐसा कोई गेंदबाज नहीं जिसकी गेंदों को नीतीश राणा के बल्ले ने बाउंड्री लाइन की राह ना दिखाई हो । अपने जबर्दस्त खेल के दम पर नीतीश राणा इस वक्त (21 अप्रैल) सबसे ज्यादा रन बनाने और सबसे ज्यादा छक्के लगाने के मामले में सबसे आगे हैं। 23 साल का ये बल्लेबाज अबतक 6 मैच में 51 के औसत से 255 रन बना चुका है, जिसमें 3 अर्धशतक भी शामिल हैं। नीतीश का स्ट्राइक रेट 142.45 है। नीतीश अबतक टूर्नामेंट में सबसे ज्यादा छक्के भी लगा चुके हैं नीतीश अबतक कुल 16 छक्के जड़ चुके हैं। सबसे ज्यादा हैरानी की बात ये है कि नीतीश राणा ने अबतक टूर्नामेंट में छक्के ज्यादा और चौके कम लगाए हैं। जिस आईपीएल में विराट कोहली, ए बी डीविलियर्स, क्रिस गेल, स्टीवन स्मिथ जैसे धुरंधर खेल रहे हैं, वहां इन सब के बीच नीतीश राणा ने अपने प्रदर्शन से एक अलग पहचान बनाई है।

अब सवाल ये उठता है कि आखिर किसने इस बेमिसाल प्रतिभा को तराशा, आखिर किसने नीतीश राणा के अंदर अच्छा प्रदर्शन करने की अलख जलाई, आखिर कौन है वो शख्स जिसने नीतीश राणा को इस काबिल बनाया कि दुनिया उन्हें सलाम करे? इन सवालों का जवाब है कोच संजय भारद्वाज, जिनकी अकेडमी में नीतीश राणा ने क्रिकेट का ककहरा सीखा है। संजय भारद्वाज ने हिंदुस्तान को गौतम गंभीर जैसा बल्लेबाज दिया है और अब नीतीश राणा भी उन्हीं के शिष्य हैं। नीतीश राणा की तकनीक और उनके रवैये पर हमने उनके कोच संजय भारद्वाज से बात की, आइए जानते हैं उन्होंने नीतीश राणा के प्रदर्शन और उनकी काबिलियत पर क्या कुछ कहा:

क्रिकेट कंट्री हिंदी- आपके शिष्य नीतीश राणा ने आईपीएल में धूम मचा रखी है, कहां छिपा तक अबतक ये बल्लेबाज?

संजय भारद्वाज- नीतीश राणा अंडर 16 से ही लगातार रन बना रहा है। हां आईपीएल में उनको पूरी दुनिया देख रही है। वैसे नीतीश ने रणजी ट्रॉफी में पहले मैच में 146 रन बनाए थे। 2012 अंडर 19 वर्ल्ड कप में वो चोट के चलते नहीं खेल पाए थे। नीतीश बचपन से ही काफी टैलेंटेड थे, बड़ी पारियां खेलते थे। वैसे नीतीश अब लगातार रन बनाने की कला भी सीख चुके हैं।

क्रिकेट कंट्री हिंदी- आईपीएल 10 में नीतीश राणा अबतक सबसे ज्यादा छक्के लगा चुके हैं? वो छक्के लगाने की अलग से प्रैक्टिस करते हैं ?

संजय भारद्वाज- नीतीश राणा लंबे छक्के लगाने की काफी प्रैक्टिस करते हैं। वो जब भी अकेडमी में प्रैक्टिस करने आते हैं 2-3 गेंद अकेडमी के बाहर पहुंचा देते हैं। नीतीश राणा अबतक 200-300 गेंद खो चुके हैं। नीतीश छक्कों की खास ट्रेनिंग करते हैं।

क्रिकेट कंट्री हिंदी- नीतीश राणा की बल्लेबाजी में गौर करने वाली बात ये है कि वो छक्का लगाने के बाद 1 रन, 2 रन लेने की कोशिश करते हैं और शायद इसीलिए वो 3 अर्धशतक भी जमा चुके हैं?

संजय भारद्वाज- मैं अपनी क्रिकेट अकेडमी में अपने सभी बच्चों को यही पाठ पढ़ाता हूं कि बड़ा शॉट मारने के बाद हमेशा एक रन लेने की कोशिश करो, इससे आपकी भावनाएं काबू में रहेंगी। छक्का मारने के बाद खिलाड़ी जोश में आ जाता है, अगर लगातार जोश में शॉट खेलोगे तो बड़ी पारियां नहीं खेल पाओगे।

क्रिकेट कंट्री हिंदी- आईपीएल में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद कई खिलाड़ी टीम इंडिया में जगह बना पाने में सफल रहे हैं, क्या आपको लगता है कि चैंपियंस ट्रॉफी में नीतीश राणा को मौका मिल सकता है?

संजय भारद्वाज- किसी भी क्लब का खिलाड़ी हो, किसी भी राज्य का खिलाड़ी हो अच्छा प्रदर्शन करे तो मौका मिलना ही चाहिए। नीतीश राणा लगातार अच्छा प्रदर्शन कर रहा है तो एक आशा तो बनती ही है कि चैंपियंस ट्रॉफी में चयन हो सकता है। आईपीएल में खेलना बड़े फक्र की बात है लेकिन हिंदुस्तान के लिए खेलना किसी सपने के पूरे होने जैसा है। नीतीश की उम्र अभी सिर्फ 23 साल है अगर टीम इंडिया में उसे मौका मिला तो वो अच्छा प्रदर्शन करेगा। ये भी पढ़ें-नीतीश राणा ने बिना चौका मारे, जड़ दिए 7 छक्के, बना डाला आईपीएल का सबसे बड़ा रिकॉर्ड

क्रिकेट कंट्री हिंदी- आईपीएल में अच्छे प्रदर्शन के बाद आपकी नीतीश राणा से बात हुई है? आपको अब भी उनके खेल में कुछ खामियां नजर आती हैं?

संजय भारद्वाज- नीतीश से फोन पर बात होती रहती है, उसकी बल्लेबाजी काफी अच्छी है। मैं बस यही चाहता हूं कि जो सफलता वो इस वक्त हासिल कर रहा है, उसका नशा सिर पर नहीं चढ़ना चाहिए। हर दिन, हर मुकाबले में अच्छे प्रदर्शन करने की भूख होनी चाहिए।

क्रिकेट कंट्री हिंदी-नीतीश राणा किस खिलाड़ी को अपना आदर्श मानते हैं ?

संजय भारद्वाज- हर खिलाड़ी की तरह नीतीश राणा भी सचिन के फैन हैं, लेकिन नीतीश को विराट कोहली बहुत पसंद हैं। नीतीश विराट कोहली जैसा बल्लेबाज बनना चाहते हैं। विराट की तरह लगातार रन बनाना चाहते हैं। नीतीश में विराट जैसा ही लड़ने का जज्बा है।