© IANS
© IANS

16 अक्टूबर 2013 ये वो तारीख है जब टीम इंडिया ने इतिहास रचा था। इसी दिन टीम इंडिया ने अपने वनडे इतिहास की सबसे बड़ी जीत हासिल की थी। जयपुर में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेले गए वनडे मैच में टीम इंडिया ने 360 रनों के लक्ष्य को सिर्फ 43.3 ओवर में हासिल कर लिया था। टीम इंडिया को जीत दिलाने में सबसे बड़ी भूमिका अदा की थी ओपनर रोहित शर्मा और विराट कोहली ने, जिन्होंने नाबाद 141 और नाबाद 100 रनों की पारी खेली थी। विराट कोहली ने तो सिर्फ 52 गेंद में शतक जड़ दिया था जो कि हिंदुस्तान के इतिहास का सबसे तेज वनडे शतक है।

कैसे मिली थी ऐतिहासिक जीत
जयपुर वनडे में ऑस्ट्रेलिया ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी का फैसला किया। ओपनर एरॉन फिंच और फिल ह्यूज ने कंगारू टीम को अच्छी शुरुआत दिलाई। फिंच ने 50 रन की पारी खेली और ह्यूज के साथ 74 रनों की साझेदारी की। हालांकि फिंच को रैना ने रन आउट कर टीम इंडिया को पहली कामयाबी दिलाई। इसके बाद फिल ह्यूज और शेन वॉटसन ने मोर्चा संभाला और ऑस्ट्रेलिया का स्कोर 182 रनों तक पहुंचा दिया। फिल ह्यूज ने 83 और वॉटसन ने 59 रन बनाए। रही सही कसर कप्तान जॉर्ज बेली ने पूरी कर दी। उन्होंने सिर्फ 50 गेंदों में ताबड़तोड़ 92 और मैक्सवेल ने 53 रन बनाकर ऑस्ट्रेलिया के स्कोर को 359 रनों तक पहुंचा दिया। ये भी पढ़ें: हर टीम चाहती है हार्दिक पांड्या जैसा खिलाड़ी- केन विलियमसन

टीम इंडिया का जवाब
लक्ष्य बड़ा था ऐसे में टीम इंडिया को ताबड़तोड़ शुरुआत की जरूरत थी। रोहित शर्मा और शिखर धवन की जोड़ी ने ऐसा ही किया। दोनों ने पहले विकेट के लिए 26.1 ओवर में 176 रन कूट डाले। शिखर धवन सिर्फ 5 रन से अपने शतक से चूक गए और 86 गेंदों में 95 रन बनाकर आउट हो गए। इसके बाद विराट कोहली क्रीज पर आए और छक्के-चौकों की बारिश कर दी। रोहित और विराट कोहली ने कंगारू गेंदबाजों की जबर्दस्त धुनाई करते हुए सभी को चौंका दिया। दोनों के बीच नाबाद 186 रनों की साझेदारी हुई। दोनों ही बल्लेबाजों ने मिलकर कुल 11 छक्के जड़े और इस तरह टीम इंडिया ने वनडे इतिहास में अपनी सबसे बड़ी जीत हासिल की।