(Photo courtesy: Getty Images)
(Photo courtesy: Getty Images)

14 सितंबर 2007…ये वो तारीख है जब टीम इंडिया ने क्रिकेट इतिहास की सबसे अनोखी जीत हासिल की थी। ये वो तारीख है जब धोनी की कप्तानी में टीम इंडिया ने पहली बार पाकिस्तान को धूल चटाई थी। 2007 वर्ल्ड टी20 में आज ही के दिन टीम इंडिया ने पाकिस्तान को बॉल आउट के जरिए करारी मात दी थी। सांस रोक देने वाला ये मुकाबला आखिरी गेंद पर टाई हो गया था और इसका रिजल्ट बॉल आउट के जरिये निकला था। बॉल आउट में भारत ने पाकिस्तान को 3-0 से हराकर इतिहास रच दिया था। आइए आपको बताते हैं कि आखिर कैसे भारत ने टाई होने के बाद मुकाबले को बॉल आउट में जीता था।

भारत को लगे थे शुरुआती झटके: इस महामुकाबले में पाकिस्तान ने टॉस जीतकर भारत को पहले बल्लेबाजी करने को कहा। पहले बल्लेबाजी करने उतरी भारतीय टीम की शुरुआत बेहद घटिया रही और टीम का पहला विकेट शून्य के स्कोर पर ही गिर गया। इसके बाद भी टीम के विकेट गिरने का सिलसिला जारी रहा और टीम का स्कोर 2/9, 3/19, 4/36 और 5/82 हो गया। भारत की आधी टीम सिर्फ 82 रनों पर ही पवेलियन लौट गई। भारतीय टीम दबाव में आ चुकी थी। इस दौरान भारत ने गंभीर, सहवाग, युवराज, कार्तिक और उथप्पा के विकेट खो दिए। उथप्पा ने आउट होने से पहले 50 रनों की पारी खेली।

भारत ने बनाए 141 रन: 5 विकेट गिर जाने के बाद धोनी और इरफान पठान ने कुछ हद तक भारत की पारी को संभाला और दोनों ने स्कोर को 100 के पार पहुंचा दिया। धोनी के (33), पठान के (20) और अगरकर के (14) रनों की बदौलत भारत ने 20 ओवरों में 141 रनों का स्कोर बनाया।

भारतीय गेंदबाजों ने कराई टीम इंडिया की वापसी: 142 रनों के लक्ष्य का पीछा करने उतरी पाकिस्तान की टीम की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही और भारत के गेंदबाजों ने पाकिस्तान को शुरुआत से ही बैकफुट पर धकेल दिया। आर पी सिंह ने इमरान नजीर (7) को आउट कर 12 रन के कुल योग पर पाकिस्तान को पहला झटका दे दिया। पहला विकेट गिर जाने के बाद सलमान बट और कामरान अकमल ने पारी को संभालने की कोशिश की और स्कोर को 44 रन तक पहुंचा दिया। हालांकि इसी बीच अगरकर ने बट (17) को आउट कर भारत को दूसरी सफलता दिला दी। अभी टीम के स्कोर में 3 रन और जुड़े थे कि कामरान अकमल को युवराज ने रन आउट कर दिया।

इरफान पठान ने यूनिस खान (2) को आउट कर पाकिस्तान को चौथा विकेट भी 47 रनों पर ही गिरा दिया। अब यहां से भारत ने मैच में पकड़ बना ली थी। इसके बाद भी पाकिस्तान के विकेट गिरने का सिलसिला जारी रहा और टीम ने पहले शोएब मलिक (20) और फिर शाहिद अफरीदी (7) रन बनाकर आउट हो गए।

मिस्बाह बने ‘वन मैन आर्मी’: पाकिस्तान के विकेट गिरते जा रहे थे और मिस्बाह एक छोर पर लगातार रन बनाते जा रहे थे। मिस्बाह ने अपनी टीम को मुकाबले में बनाए रखा और तेजी से रन बनाते रहे। मिस्बाह को कोई भी भारतीय गेंदबाज परेशान नहीं कर पा रहा था और वो आसानी से रन बना रहे थे। देखते ही देखते मिस्बाह ने अर्धशतक जड़ दिया और मुकाबले में अपनी टीम की वापसी करा दी।

आखिरी ओवर का रोमांच: मिस्बाह बेहतरीन बल्लेबाजी कर रहे थे और उन्होंने मुकाबले को आखिरी ओवर में ला दिया। पाकिस्तान को आखिरी ओवर में जीतने के लिए 12 रनों की जरूरत थी। धोनी ने आखिरी ओवर कराने के लिए श्रीसंत के हाथों में गेंद सौंपी। श्रीसंत की पहली गेंद पर यासिर अराफात ने 1 रन लेकर मिस्बाह को स्ट्राइक दे दी। मिस्बाह ने दूसरी गेंद पर बेहतरीन शॉट खेला और गेंद को 4 रनों के लिए भेज दिया। अब पाकिस्तान को 4 गेंदों पर 7 रन चाहिए थे।

तीसरी गेंद पर मिस्बाह ने 2 रन लेकर अपनी टीम को जीत के और करीब पहुंचा दिया। चौथी गेंद पर मिस्बाह ने चौका जड़कर अपनी टीम की जीत लगभग तय कर दी। अब पाकिस्तान को 2 गेंदों में सिर्फ 1 रन की जरूरत थी। पाकिस्तानी समर्थकों के चेहरे खिले हुए थे और भारतीय प्रशंसक मायूस नजर आने लगे। लेकिन क्रिकेट के खेल में एक कहावत है कि जब तक आखिरी गेंद ना फेंकी जाए। श्रीसंत की पांचवां गेंद पर कोई रन नहीं बना और अब पाकिस्तान को 1 गेंद पर 1 रन चाहिए था।

आखिरी गेंद पर मिस्बाह हो गए रन आउट: मैच बेहद रोमांचक हो चला था। श्रीसंत ने आखिरी गेंद फेंकी। मिस्बाह बड़ा शॉट नहीं खेल पाए और गेंद युवराज के हाथों में चली गई। इस दौरान पाकिस्तान के दोनों बल्लेबाज रन लेने के लिए दौड़ पड़े। युवराज के हाथों में गेंद आ चुकी थी और उन्होंने गेंद को श्रीसंत के पास फेंका। श्रीसंत ने पलक झपकते ही गेंद को स्टंप्स पर मार मिस्बाह को रन आउट कर दिया और मुकाबला टाई हो गया।

बॉल आउट से हुआ मैच का फैसला:

राउंड-1: टाई होने के बाद मुकाबला का फैसला बॉल आउट के जरिए हुआ। राउंड-1 में भारत की तरफ से सहवाग ने गेंद थामी और गेंद को स्टंप्स पर मार दिया। पाकिस्तान की तरफ से यासिर अराफात ने गेंद फेंकी और वो स्टंप पर नहीं मार सके।

राउंड-2: राउंड में भारत की तरफ से हरभजन के हाथों में गेंद सौंपी गई। हरभजन ने भी गेंद को स्टंप्स पर मार दिया और जश्न में डूब गए। पाकिस्तान की तरफ से राउंड-2 में गेंदबाजी करने आए उमर गुल। गुल भी स्टंप्स पर गेंद को नहीं मार सके और भारत मुकाबले में 2-0 से आगे हो गया।

राउंड-3: राउंड 3 में धोनी ने रॉबिन उथप्पा को गेंद सौंपी। उथप्पा ने भी गेंद को स्टंप्स पर मार दिया। पाकिस्तान की तरफ से अफरीदी गेंद फेंकने आए और फिर से स्टंप को मिस कर गए। इस तरह से भारत ने इस महामुकाबले को बॉल आउट में 3-0 से जीत लिया। इस जीत के बाद भारतीय खिलाड़ी और प्रशंसक जश्न में जूब गए और जीत की खुशी मनाने लगे।