© Getty Images
© Getty Images

एमएस धोनी के लिए आज का दिन बेहद खास है क्योंकि आज के ही दिन पूरे 12 साल पहले उन्होंने अपना पहला मैन ऑफ द सीरीज अवॉर्ड जीता था। धोनी ने साल 2004 में बांग्लादेश के खिलाफ डेब्यू किया था लेकिन यह सीरीज उनके लिए खास यादागर नहीं रही और वह लगातार छोटे स्कोर बनाकर आउट हुए। साल 2005 अप्रैल में धोनी का जलवा पहली बार तब देखने को मिला जब उन्होंने विशाखापत्तनम वनडे में पाकिस्तान के खिलाफ 148 रनों की पारी खेली। इसके बाद धोनी चारों ओर छा गए और इस बात की खूब चर्चा हुई कि आखिरकार टीम इंडिया को लंबे समय के बाद एक स्पेशलिस्ट विकेटकीपर बल्लेबाज मिल गया है।

लेकिन इस पारी के बाद धोनी एक दम से खामोश से हो गए और अगली 12 पारियों में वह अर्धशतक नहीं लगा पाए। चूंकि, टीम इंडिया अच्छा प्रदर्शन कर रही थी इसलिए धोनी पर सवाल नहीं उठे लेकिन धोनी भी अच्छी तरह से समझते थे कि उन्हें अब अच्छा प्रदर्शन करना जरूरी है। अक्टूबर 2005 में श्रीलंका के खिलाफ 7 मैचों की वनडे सीरीज शुरू हो रही थी इसके पहले उन्होंने जिम्बाब्वे के खिलाफ 67* रनों की पारी खेलने के साथ ही अपनी फॉर्म में वापसी का सुबूत पेश कर दिया था लेकिन श्रीलंका के गेंदबाजों के सामने धोनी कैसा प्रदर्शन करते हैं इस बात का सबको इंतजार था।

धोनी ने खेली थी 183 रनों की पारी: धोनी ने सीरीज के तीसरे वनडे में अपना मोर्चा खोल दिया और ताबड़तोड़ 145 गेंदों में 183* रन ठोंक डाले। इस दौरान उन्होंने 15 चौके और 10 छक्के लगाए। इस तरह से धोनी छा गए। सीरीज के आखिरी मैच (12 नंवबर) में धोनी ने 80 रनों की एक और मैच जिताऊ पारी खेली। टीम इंडिया ने यह सीरीज 6-1 से जीती थी। यह टीम इंडिया की उस जमाने में श्रीलंका पर सबसे बड़ी जीत में से एक थी। एमएस धोनी इस सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी रहे।

सीरीज में सबसे ज्यादा रन बनाना वाले खिलाड़ी रहे एमएस धोनी: चूंकि टीम इंडिया ने कई मैच बड़ी जल्दी जीत लिए थे इसलिए धोनी को अन्य बल्लेबाजों के अलावा एक पारी कम खेलने को मिली। धोनी ने इस सीरीज में 5 पारियों में 115.33 की औसत से 346 रन बनाए। दूसरे नंबर पर राहुल द्रविड़ रहे जिन्होंने 6 पारियों में 91.23 की औसत से 312 रन बनाए। धोनी को मैन ऑफ सीरीज 12 नवंबर के दिन चुना गया। यह पहला मौका था जब धोनी को मैन ऑफ द सीरीज चुना गया था।

श्रीलंका के खिलाफ कप्तान संजू सैमसन का शतक, खटखटाया टीम इंडिया का दरवाजा
श्रीलंका के खिलाफ कप्तान संजू सैमसन का शतक, खटखटाया टीम इंडिया का दरवाजा

धोनी ने जब यह अवॉर्ड जीता था तब उन्होंने सिर्फ 24 पारियां खेली थीं। अब धोनी के नाम 6 मैन ऑफ द सीरीज अवॉर्ड हैं। उन्होंने ये कारनामा 309 मैचों में किया है। धोनी दुनिया में वनडे में सबसे ज्यादा मैन ऑफ द सीरीज जीतने के मामले में 10वें नंबर पर हैं। पहले नंबर पर भारत के सचिन तेंदुलकर हैं। सचिन के नाम 463 वनडे में 15 मैन ऑफ द सीरीज हैं।