On This Day Shane Warne bowled ‘Ball of the Century’ to Mike Getting
Mike Gatting © Getty Images

क्रिकेट इतिहास में आज तक कई ऐसे गेंद कराई गई हैं जिन्होंने बल्लेबाजों को पूरी तरह हैरान कर दिया है लेकिन अगर ऐसी गेंदों की एक लिस्ट बनाई जाय तो पहले नंबर पर शेन वॉर्न की ‘बॉल ऑफ द सेंचुरी’ रहेगी। आज ही के दिन ऑस्ट्रेलिया के इस दिग्गज स्पिनर ने इंग्लैंड के खिलाफ टेस्ट मैच में ऐसी गेंद डाली थी, जिसे बॉल ऑफ द सेंचुरी का नाम दिया गया। वॉर्न आज उस गेंद की 25वीं सालगिरह मना रहे हैं।

हरमनप्रीत कौर के ऑलराउंड प्रदर्शन की मदद से भारत ने थाईलैंड को हराया
हरमनप्रीत कौर के ऑलराउंड प्रदर्शन की मदद से भारत ने थाईलैंड को हराया

3 जून 1993 को इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच मैनचेस्टर स्टेडियम में खेले गए पहले टेस्ट मैच के दूसरे दिन 4 जून को वॉर्न ने अपनी इस घातक गेंद से विपक्षी टीम के बल्लेबाज माइक गेटिंग को आउट किया था। पहली पारी में ऑस्ट्रेलिया के 289 पर ऑलआउट होने के बाद बल्लेबाजी करने उतरी इंग्लैंड टीम के 71 के स्कोर पर एक विकेट खोने के बाद क्रीज पर उतरे माइक गेटिंग 28वें ओवर में इस गेंद का शिकार बने। गेंद लेग स्टंप के बहुत बाहर पिच हुई थी लेकिन फिर सीधा ऑफ स्टंप पर जाकर लगी। गेटिंग को विश्वास ही नहीं हुआ ये कैसे हुआ। ओल्ड टैफॉर्ड स्टेडियम की पिच स्पिन के लिए मशहूर है लेकिन गेंद इतना ज्यादा स्पिन होगी ये शायद किसी ने नहीं सोचा था। ऑस्ट्रेलिया टीम के विकेटकीपर इयान हेली भी हैरान थे लेकिन वॉर्न के चेहरे की हंसी बता रही थी कि उन्होंने प्लान करके ऐसा किया था।

इसे गेटिंग की किस्मत ही कहा जा सकता है वो इस गेंद का शिकार बने। दरअसल माइक एथेरटन के आउट होने के बाद तीसरे नंबर पर रॉबिन स्मिथ बल्लेबाजी करने आने वाले थे लेकिन जब दूसरा विकेट गिरा तो वो बॉथरूम में थे और ऐसे में गेटिंग को क्रीज पर आना पड़ा। गेंटिंग ने मैनेचेस्टर इवनिंग न्यूज को दिए बयान में कहा था कि, “कई लोग हैं जिन्हें लगा कि मुझे गेंद को पैड करना चाहिए था लेकिन मैने कभी भी स्पिनर को अटैक करने की कोशिश नहीं की थी। मैं अपने पैरों के पास बोल्ड होने के बारे में चिंता कर रहा था। मैने वो हिस्सा लगभग कवर कर लिया था और निश्चित किया था कि गेंद मेरे पैरों के पीछे नहीं जाएगी और अगर गेंद कुछ और करेगी तो मैं उसपर प्रतिक्रिया देने के लिए सही स्थिति में था लेकिन गेंद तेजी से और बेहद ज्यादा स्पिन हुई। ये लेगब्रेक था और मुझे पता था कि उसने (वॉर्न) ने इस पर काफी रिवर्स स्विंग लगाई है। हमें पता था कि विकेट पर टर्न है लेकिन इतना ज्यादा, ये नहीं पता था।”

वॉर्न अपनी इस विकेट से बेहद खुश थे। उन्होंने कहा था, “गेटिंग को जो गेंद कराई, उसे मैने लेग स्टंप पर पिच कराने और दूसरी तरफ स्पिन करने की कोशिश की थी। जैसे ही गेंद मेरे हाथ से निकली मुझे लगा ही था ये एकदम सही गई है।” वॉर्न ने गेंद के पीछे की तकनीक समझाते हुए कहा था, “जो एक सही लेगब्रेक गेंद होती है वो हवा में लेग साइड की तरफ जाती है और पिच होने के बाद एकदम दूसरी तरफ जाती है। हवा में गेंद का घुमाव उस पर लगाए स्पिन से आता है, ऐसे में मैने गेंद पर काफी स्पिन रखा था। इसी वजह से वो पहले इतनी घूमी और फिप स्पिन होकर इतना दूर गई।” वॉर्न ने अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर इस गेंद का वीडियो पोस्ट किया है।