टेस्ट क्रिकेट के महानतम बल्लेबाजों में एक राहुल द्रविड़ 11 जनवरी 1973 को इंदौर में पैदा हुए थे © Getty Images
टेस्ट क्रिकेट के महानतम बल्लेबाजों में एक राहुल द्रविड़ 11 जनवरी 1973 को इंदौर में पैदा हुए थे © Getty Images

भारतीय क्रिकेट के महान बल्लेबाज राहुल द्रविड़ को दुनिया उनके क्लास और डिफेंस के लिए जानती है। 11 जनवरी 1973 को जन्म लेने वाले राहुल द्रविड़ आज 44 साल के हो गए हैं। 5 साल पहले क्रिकेट जगत को अलविदा कहने वाले द्रविड़ ने अपने इंटरनेशनल करियर में 24,000 से ज्यादा रन बनाए। क्रिकेट के मैदान पर अपनी निरंतरता और विकेट पर टिकने के दृढ़ संकल्प के लिए मशहूर द्रविड़ मैदान के बाहर भी उतने ही सीधे और सरल थे। क्रिकेट को अलविदा कहने के बाद आजकल वो युवा भारतीय खिलाड़ियों को क्रिकेट के गुर सिखा रहे हैं। आइए जानते हैं राहुल द्रविड़ के बारे में कहे गए कुछ मशहूर कोटेशन के बारे में जो द्रविड़ के व्यक्तित्व की झलक दिखाते हैं।

“Sachin is God, Ganguly is God on the off side.Laxman is God of 4th innings.but When the doors of the temple are closed, even Gods are behind “The Wall” – Rahul Dravid Fan

राहुल द्रविड़ एक सच्चे टीम मैन थे। टीम की जरूरत के लिए उन्होने अपने पसंदीदा नंबर तीन को छोड़कर पारी की शुरूआत करने के अलावा विकेटकीपिंग की जिम्मेदारी भी निभाई। ना जाने कितने मौकों पर चोट लगने के बाद टीम की हार बचाने के लिए द्रविड़ चट्टान की तरह विकेट पर टिके रहे।

 

“Rahul Dravid is a player who would walk on broken glass if his team asks him to”– Navjot Singh Siddhu

राहुल द्रविड़ ने अपनी मेहनत और दृढ़ संकल्प की बदौलत खुद को अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में सफल बनाया। उनकी सफलता इस बात का प्रमाण है कि मेहनत और संकल्प से कुछ भी पाया जा सकता है।

“Some succeeded because they are destined to, but he succeeded because he was Determined to” – Navjot Singh Siddhu

राहुल द्रविड़ का करियर विवादों से कोसों दूर रहा © AFP
राहुल द्रविड़ का करियर विवादों से कोसों दूर रहा © AFP

मैदान में शांत रहने वाले द्रविड़ ने कभी भी किसी स्लेजिंग का मुंह से जवाब नहीं दिया बल्कि उनके बल्ले से जवाब दिया। अपने करियर में द्रविड़ विवादों से कोसों दूर रहे।

“All this going around is not aggression. If you want to see aggression on cricket field, look into Rahul Dravid’s eyes” – Matthew Hayden

द्रविड़ को मिस्टर भरोसेमंद का खिताब यूं ही नहीं दिया गया। बल्कि विपरीत परिस्थितियों में विकेट पर टिकने की क्षमता और टीम को मुश्किल परिस्थिति से निकालने की उनकी जिद की वजह से ये खिताब मिला।

“If I have to put anyone to bat for my life, it’ll be Kallis or Dravid”. – Brian Lara

“For me, an ideal Dravid innings needs a most challenging pitch. If it’s a batting beauty with the ball coming on to the bat, give me Sehwag or Laxman, if there’s a truly great array of bowlers set to be unleashed give me Sachin.If it’s a minefield, give me Dravid –Siddhartha Vaidyanathan

“If you can’t get along with Dravid, you’re struggling in life ” – Brett Lee

साझेदारियां बनाने में द्रविड़ का कोई सानी नहीं था © Getty Images
साझेदारियां बनाने में द्रविड़ का कोई सानी नहीं था © Getty Images

राहुल द्रविड़ एक बार विकेट पर टिक गए उसके बाद उनका विकेट लेने के लिए गेंदबाज को असाधारण गेंदबाजी करनी पड़ती थी। ये ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान स्टीव वॉ के इस कथन से सिद्ध हो जाता है।

“Try to take his wicket in the first 15 minutes, if you can’t then only try to take the remaining wickets” — Steve Waugh

“Rahul Dravid being known as ‘The Wall’ is pretty much spot on. ‘The fortress’ could also describe Rahul. Because once, Dravid was set, you needed the bowling equivalent of a dozen cannon firing all at once to blast him down,” – Shane Warne

“Ask any bowler and he will tell you that all the greats will give you a half chance early in their innings, except Dravid.” — Gaurav Kapur ALSO READ: वीडियो: जब खुद को ‘बकरा’ बनने से नहीं रोक सके राहुल द्रविड़

द्रविड़ ने शुरूआती आलोचनाओं के बाद खुद को एक भरोसेमंद वनडे बल्लेबाज के रूप में स्थापित किया © Getty Images
द्रविड़ ने शुरूआती आलोचनाओं के बाद खुद को वनडे क्रिकेट के एक भरोसेमंद बल्लेबाज के रूप में स्थापित किया © Getty Images

राहुल द्रविड़ की ख्याति हमेशा सचिन की ख्याति के नीचे दब कर रह गई। लेकिन वास्तविकता में द्रविड़ को सिर्फ अपने खेल से प्यार था उनको ख्याति से कोई लेना देना नहीं था। उन्होने हमेशा क्रिकेट को ही अपना पहला प्यार माना।

If a martian were to land on earth now and be told that the best batsman in the world was playing in this match, he would think it was Rahul Dravid and not Sachin Tendulkar – Christopher Martin-Jenkins

क्रिकेट जगत में इतनी सफलता पाने के बाद भी द्रविड़ के पांव हमेशा जमीन पर रहे। क्रिकेट के लिए उनका प्यार और कुछ नया सीखने की इच्छा को उन्होने सबसे ऊपर रखा।

“If I packed only two sets of informal clothes, he would rotate them through an entire tour if he had to and not think about it. He doesn’t care for gadgets, and barely registers brands – of watches, cologne or cars. But if the weight of his bat was off by a gram, he would notice it in an instant and get the problem fixed” – Vijeta Dravid(Rahul Dravid’s wife) 

ALSO READ: राहुल द्रविड़ बर्थडे स्पेशल: जानिए राहुल द्रविड़ से जुड़ी 10 रोचक बातें