Rohit sharma’s historic 200s against australia and srilanka
Rohit Sharma © IANS

भारतीय क्रिकेट टीम के उप- कप्तान रोहित शर्मा को दुनिया का सबसे खतरनाक बल्लेबाज माना जाता है। रोहित के पास क्लास भी है और आक्रमक शॉट्स भी तभी मैदान पर चौकों-छक्कों की लड़ी लगाते हुए कब ये बल्लेबाज दोहरा शतक जड़ देता है पता ही नहीं चलता। रोहित शर्मा के नाम वनडे फॉर्मेट में तीन दोहरा शतक है। ऐसा करने वाले रोहित दुनिया के अकेले बल्लेबाज हैं।

रोहित शर्मा के फॉर्म को लेकर लगातार सवाल उठते रहते हैं लेकिन यह भी सच है जिस दिन उनका बल्ला चलता है किसी और की एक नहीं चलती। रोहित की आतिशी बल्लेबाजी के लिए ही उनको ‘रो-हिट मैन’ के नाम से पुकारा जाता है। इस भारतीय बल्लेबाज की सबसे बड़ी खासियत है अपनी आहिस्ता से संभली हुई पारी को तेजी से बड़ी पारी में तब्दील करना।

Rohit Sharma © IANS
Rohit Sharma © IANS

ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ जड़ा पहला दोहरा शतक

रोहित ने अपना पहला दोहरा शतक 2013 में ऑस्ट्रेलिया जैसी धुरंधर टीम के खिलाफ जड़ा। इस पारी में रोहित ने 71 गेंद पर अपना अर्धशतक पूरा किया था। शतक तक पहुंचने में उनको 114 गेंद लगे थे। अगली 26 गेंद पर रोहित ने 150 रन का आंकड़ा छूआ और आखिरी 50 रन सिर्फ 16 गेंद में पूरा कर पहला तीसरी शतक जमाया। इस पारी में उनके बल्ले से निकला 12 चौके और 15 शानदार छक्के।

श्रीलंका के खिलाफ बनाया वनडे में दूसरा दोहरा शतक

रोहित ने अपना दूसरा दोहरा शतक साल 2014 में लगाया था इस मैच में भी धीमी शुरुआत करते हुए इस बल्लेबाज ने 72 गेंद पर 50 रन पूरा किया। इसके बाद 100वीं गेंद पर शतक बनाया।  अपना स्कोर 150 तक पहुंचाने के लिए महज 25 गेंद और खेले। 166वां गेंद खेलते ही रोहित ने वनडे में दूसरा दोहरा शतक जड़ इतिहास रच दिया था।

Rohit Sharma © IANS
Rohit Sharma © IANS

वनडे में तीसरा शतक बना रचा इतिहास

दिसंबर 2017 में श्रीलंकाई गेंदबाजों को एक बार फिर रोहित के बल्ले की मार का सामना करना पड़ा। इस मुकाबले में भी रोहित की शुरुआत धीमी रही और हाफ सेंचुरी तक पहुंचने के लिए उन्होंने 65 गेंद खेले। 50 गेंद और खेलने के बाद 115वीं गेंद पर रोहित का शतक पूरा हुआ। इसके बाद गेंदबाजों की पिटाई शुरू करते हुए अगले 36 गेंद (133 गेंद पर 150 और 151 गेंद पर 200रन) पर अपना शतक जड़ा।

इस एक पारी के बाद रोहित विश्व क्रिकेट के इतिहास पुरुष बन गए क्योंकि आज से पहले ना तो किसी ने वनडे में तीन दोहरा शतक लगाने के बारे में सोचा और ना ही कोई कर पाया था।