Sachin Tendulkar Reminisces his ‘Desert Storm’ inning
Sachin Tendulkar © IANS

पूर्व भारतीय दिग्गज सचिन तेंदुलकर ने सोमवार को अपने उपर लिखे एक किताब के लांच पर कुछ पुराने किस्सों को याद किया। सचिन ने बताया कैसे शारजाह का दौरा उनके लिए बेहद यादगार बन गया। यहां उनको ‘रेतीले तूफान’ का सामना करना पड़ा था। 41 डिग्री की तपती गर्मी में उन्होंने शानदार शतक भी बनाया जिसे ”डिजर्ट स्टॉर्म” के नाम से जाना जाता है।

सचिन तेंदुलकर ने शारजाह में खेले गए उस टूर्नामेंट को याद करते हुए बताया कैसे रेतीले तूफान को देख वो दंग रह गए थे। सचिन ने बताया जब उन्होंने सामने से रेत को रफ्तार से आते देखा तो लगा जैसे कोई हॉलीवुड की फिल्म चल रही है। सचिन को जब तूफान सामने नजर आने लगा तो उन्होंने सबसे पहले ऑस्ट्रेलिया के पूर्व विकेटकीपर एडम गिलक्रिस्ट को बारे में सोचा। रेत के तूफान की वजह से सचिन को मैदान छोड़ना पड़ा। खेल को तकरीबन 25 मिनट तक रोकना पड़ा था। इसके बाद भारत के सामने संशोधित लक्ष्य दिया गया। जिसे 50 ओवर में 285 से घटा कर 46 ओवर में 277 कर दिया गया था।

सचिन तेंदुलकर की ”डिजर्ट स्टॉर्म” पारी

41 डिग्री की तपती गर्मी में भी सचिन ने शेन वार्न, डेमियन फ्लेमिंग और माइकल कास्प्रोविच जैसे गेंदबाजों की पिटाई करते हुए 143 रन की लाजवाब पारी खेली थी। सचिन की इस पारी को ”डिज़र्ट स्टॉर्म” के नाम जाना जाता है।

इस मुकाबले में भारत को 26 रन से हार का सामना करना पड़ा था लेकिन बेहतर रन रेट के आधार पर उसने फाइनल में जगह पक्की कर ली थी। फाइनल सचिन तेंदुलकर के जन्मदिन के दिन खेला गया था। ऑस्ट्रेलिया से मिले 272 रन के लक्ष्य को सचिन के 134 रन की शानदार पारी के दम पर भारत ने हासिल किया था।