South Africa vs Australia, Test series 2018: Controversies that shocked the Cricket world
दक्षिण अफ्रीका © Getty Images

हाल ही में खत्म हुई दक्षिण अफ्रीका बनाम ऑस्ट्रेलिया टेस्ट सीरीज को अगर साल की सबसे विवादित सीरीज कहा जाय तो बिल्कुल गलत नहीं होगा। इंग्लैंड के खिलाफ घरेलू एशेज सीरीज जीतने के बाद दक्षिण अफ्रीका पहुंची ऑस्ट्रेलिया टीम से सभी को एक कड़े मुकाबले की उम्मीद थी। जो डरबन में खेले गए पहले टेस्ट मैच में नजर भी आया। मेहमान टीम ने 118 रनों से आसान जीत दर्ज की। हालांकि कंगारू टीम इस जीत के सिलसिले को बरकरार नहीं रख पाई और अगले तीनों मैच लगातार हारकर सीरीज गंवा बैठी। इस सीरीज के दौरान दोनों टीमों की तरफ से कुछ शानदार प्रदर्शन देखने को मिले लेकिन भविष्य में फैंस इस सीरीज को इसके विवादों की वजह से ही याद करेंगे। आइए इस सीरीज के दौरान हुए हर एक विवाद पर करीब से नजर डालते हैं।

क्विंटन डी कॉक-डेविड वॉर्नर: वैसे तो डरबन टेस्ट के दौरान मैदान पर ज्यादा विवाद नहीं देखने को मिला, हालांकि स्पिन गेंदबाज नाथन लॉयन ने एबी डी विलियर्स  पर गेंद फेंककर खेल भावना का अपमान किया और इसके चलते उन पर जुर्माना भी लगा। लेकिन असली विवाद मैदान के बाहर ड्रेसिंग रूम की सीढ़ियों पर हुआ। डरबर टेस्ट के दौरान खिलाड़ियों के ड्रेसिंग रूम के सामने लगे सीसीटीवी का एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें दक्षिण अफ्रीका के विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक और ऑस्ट्रेलियाई उप कप्तान डेविड वॉर्नर आपस में भिड़ते दिखे। बाद में वॉर्नर ने मीडिया के सामने कहा कि डी कॉक ने उनकी पत्नी केंडिस वॉर्नर पर अभद्र टिप्पणी की थी। इस विवाद पर कई मौजूदा और पूर्व खिलाड़ियों (ग्रीम स्मिथ, शेन वॉर्न) ने बयान दिए।

कगीसो रबाडा-स्टीवन स्मिथ: सीरीज की शुरुआत से पहले ही ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ ने अपने बयान में साफ कर दिया कि उनके खिलाड़ी दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज कगीसो रबाडा को निशाना बनाएंगे। रबाडा काफी आक्रमक क्रिकेटर हैं और ऑस्ट्रेलियाई इसका फायदा उठाएंगे। पोर्ट एलिजाबेथ टेस्ट के दौरान कुछ ऐसा ही हुआ। आक्रामक स्वभाव के रबाडा ने दूसरे टेस्ट मैच के दौरान स्टीवन स्मिथ को कंधा मारा। जिसके चलते रबाडा पर दो टेस्ट मैचों का बैन लग गया। इसी टेस्ट मैच के दौरान रबाडा ने वॉर्नर को भी सेंड ऑफ दिया था। हालांकि बाद में रबाडा ने इस बैन के खिलाफ अपील की और आईसीसी ने उन पर लगा ये बैन हटा दिया लेकिन विपक्षी टीम के कप्तान स्मिथ इससे खुश नहीं थे।

बॉल टेंपरिंग: सीरीज के तीसरे टेस्ट के दौरान ऐसी घटना हुई, जिसने पूरे क्रिकेट जगत को चौंका दिया। केपटाउन के न्यूलैंड्स स्टेडियम में खेले गए मैच के तीसरे दिन ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट फील्डिंग के दौरान गेंद पर कुछ लगाते हुए कैमरे में कैद हुए। सोशल मीडिया पर वायरल हुए इस वीडियो में बैनक्रॉफ्ट गेंद पर पीले रंग का टेप लगाते दिखे। मामला बढ़ने पर बैनक्रॉफ्ट और कप्तान स्मिथ ने मीडिया के सामने गेंद से छेड़छाड़ की बात मानी। आईसीसी ने स्मिथ पर एक टेस्ट मैच का बैन लगाया, वहीं बैनक्रॉफ्ट पर 75 प्रतिशत मैच फीस का जुर्माना लगा। इसके बाद इस घटना में उप कप्तान डेविड वॉर्नर की भूमिका भी सामने आई। क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने मामले की जांच की और स्मिथ, वॉर्नर पर एक-एक साल का बैन लगाया। साथ ही बैनक्रॉफ्ट पर 9 महीने का बैन लगाया गया।

भावुक प्रेस कॉन्फ्रेंस: गेंद टेपरिंग विवाद तीनों खिलाड़ियों को सजा मिलने के साथ खत्म नहीं हुआ। सोशल मीडिया पर इसे लेकर फैंस का गुस्सा बहुत ज्यादा बढ़ गया। जिसके बाद बैनक्रॉफ्ट और स्मिथ ने मीडिया के सामने आकर क्रिकेट फैंस और ऑस्ट्रेलियाई जनता से माफी मांगी। स्मिथ प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान काफी ज्यादा भावुक हो गए और रो पड़े। जिसके बाद कई पूर्व और मौजूदा क्रिकेटर उनके समर्थन में उतरे। गेंद से छेड़छाड़ मामले में मुख्य भूमिका निभाने वाले वॉर्नर ने मीडिया के सामने आने में थोड़ा समय लगाया। हालांकि जब वो मीडिया के सामने आए तो उन्होंने भी काफी भावुक बयान दिया। वॉर्नर ने कहा कि उन्हें पता है कि शायद अब वो कभी ऑस्ट्रेलिया के लिए नहीं खेल पाएंगे।