41 से 50 ओवरों के बीच सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज © Getty Images
41 से 50 ओवरों के बीच सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज © Getty Images

महेंद्र सिंह धोनी ने हाल ही में भारतीय टीम के सीमित ओवरों की कप्तानी के पद से इस्तीफा दिया है। और अब वह बतौर खिलाड़ी ही भारतीय टीम का हिस्सा रहेंगे। लेकिन धोनी भले ही बतौर कप्तान खेलें या फिर बतौर खिलाड़ी वह हमेशा अपने धूम-धड़ाके के लिए मशहूर रहते हैं। आज हम आपको बताएंगे वनडे क्रिकेट में आखिरी के 10 ओवरों में सबलसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाजों के बारे में। तो आइए जानते हैं किन 41 से 50 ओवरों के बीच किन पांच बल्लेबाजों ने वनडे क्रिकेट में बनाए हैं सबसे ज्यादा रन।

1. महेंद्र सिंह धोनी: सब जानते हैं कि महेंद्र सिंह धोनी किस कदर खतरनाक खिलाड़ी हैं। धोनी को बेस्ट फिनिशर भी कहा जाता है। और ऐसा इसलिए कहा जाता है क्योंकि उन्होने कई मौकों पर भारतीय टीम को अप्रत्याशित जीत दिलाई है। धोनी ने अपने करियर में 41 से 50 ओवरों के बीच 133 पारियों में 130 के बेहत खतरनाक स्ट्राइक रेट के साथ शानदार 3,231 रन बनाए हैं। आंकड़ों से साफ है धोनी अंतिम ओवरों में विरोधी टीम पर कितने खतरनाक साबित होते हैं। धोनी ने विश्व कप 2011 में जो मैच विजयी छक्का लगाया था वो आज भी सभी क्रिकेट प्रेमियों के जहन में ताजा है। धोनी ने इसी तरह कई बार भारत को जीत दिलाई है।  ये भी पढ़ें: विराट कोहली के बाद ये उपलब्धि हासिल करने वाले दूसरे खिलाड़ी बने केन विलियमसन

2. माइक हसी: सूची में दूसरे नंबर पर मौजूद हैं ऑस्ट्रेलिया के लिए कई बड़े और यादगार मैच जिता चुके माइक हसी। हसी को ऑस्ट्रेलिया में मिस्टर क्रिकेट के नाम से भी पुकारा जाता रहा है। और इसका कारण है कि वह ऑस्ट्रेलिया के लिए काफी शानदार खेल दिखाते रहे हैं। हसी ने 41 से 50 ओवरों के बीच अपने करियर में कुल 98 पारियों में 129 के अच्छे स्ट्राइक रेट के साथ 2,051 रन बनाए हैं। साफ है हसी ने इस दौरान ऑस्ट्रेलिया के लिए कई उपयोगी पारियां खेलीं हैं। माइक हसी जब तक क्रीज पर मौजूद रहते थे तब तक वह स्कोरबोर्ड को लगातार बढ़ाते रहते थे और साथ ही विपक्षी टीम का सरदर्द भी।

3. एंजेला मैथ्यूज: श्रीलंका के स्टार ऑलराउंडर एंजेला मैथ्यूज इस सूची में तीसरे नंबर पर हैं। मैथ्यूज ने अपने करियर में 41 से 50 ओवरों के बीच 88 पारियां खेलीं हैं। इस दौरान मैथ्यूज ने 116 के बेहतरीन स्ट्राइक रेट के साथ कुल 1,830 रन बनाए हैं। मैथ्यूज ने श्रीलंका के लिए सबसे बड़े मैच विनर खिलाड़ी हैं और जब तक वह क्रीज पर रहते हैं, विरोधी टीम के लिए खतरा बने रहते हैं। मैथ्यूज मौजूदा समय में श्रीलंका के सबसे भरोसेमंद बल्लेबाज हैं और श्रीलंका टीम को उनसे काफी उम्मीदें रहतीं हैं।

4. जेपी ड्यूमिनी: दक्षिण अफ्रीका के धाकड़ बल्लेबाज जेपी ड्यूमिनी के बारे में कहा जाता है कि अगर उन्हें शुरू में आउट नहीं कर सके तो वह अपना आक्रामक रुख दिखाता है और विपक्षी टीम पर कहर बरपा देता है। जेपी ड्यूमिनी के आंकड़े भी इसी बात का सबूत देते हैं। जेपी ड्यूमिनी ने अपने करियर में 67 पारियों में 41 से 50 ओवरों के बीच बल्लेबाजी की है और इस दौरान उन्होंने 130 के खतरनाक स्ट्राइक रेट से 1,439 रन बनाए हैं। जेपी ड्यूमिनी ने अपनी आतिशी पारी से कई दक्षिण अफ्रीका को कई हारे हुए मैच जिताए हैं। ये भी पढ़ें: जो रूट पिता बने, पूरी सीरीज के लिए रहेंगे उपलब्ध

5. सुरेश रैना: भारतीय टीम के लिए मैच विनर माने जाने वाले सुरेश रैना अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते हैं। रैना जब तक क्रीज पर रहते हैं तो रन बनते नहीं बहते हैं। रैना अंतिम ओवरों में भारत की रन गति को एक दम से बढ़ा देते हैं और अपने लंबे-लंबे शॉट के दमपर गेंदबाजों पर कहर बनकर टूटते हैं। रैना ने अपने करियर में 78 पारियों में 41 से 50 ओवरों के बीच बल्लेबाजी की है। इस दौरान रैना ने 132 के बेहतरीन स्ट्राइक रेट के साथ 1,407 रन बनाए हैं। आंकड़ों से साफ है कि रैना जब अपने रंग में होते हैं तो वह किसी भी क्षण मैच का पासा पलटने का माद्दा रखते हैं।