Virender Sehwag reveals why MS dhoni promoted himself ahead of Yuvraj singh in the 2011 WC Final
Virender Sehwag © Getty Images

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व विस्‍फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने 2011 विश्‍व कप फाइनल मैच में कप्‍तान महेंद्र सिंह धोनी को बैटिंग के लिए उपरी क्रम पर भेजे जाने को लेकर एक खुलासा किया है। वीरू ने बताया है कि किसके कहने पर धोनी को बेहतरीन फॉर्म में चल रहे युवराज सिंह की जगह बैटिंग के लिए भेजा गया।

न्‍यूजीलैंड के ओपनर रॉब निकोल ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया संन्‍यास
न्‍यूजीलैंड के ओपनर रॉब निकोल ने क्रिकेट के सभी फॉर्मेट से लिया संन्‍यास

2 अप्रैल, 2011 को भारतीय टीम दूसरी बार विश्‍व चैंपियन बनी थी। धोनी की कप्‍तानी में भारत ने वानखेड़े स्‍टेडियम में खेले गए फाइनल मुकाबले में श्रीलंका को हराकर 28 साल बाद विश्‍व चैंपियन बनने का गौरव हासिल किया था।

फाइनल में श्रीलंका ने माहेला जयवर्धने के शानदार शतक की बदौलत 274 रन बनाए थे। भारतीय टीम ने 275 रन का पीछा करते हुए सचिन तेंदुलकर और वीरेंद्र सहवाग के विकेट जल्‍दी गंवा दिए थे। इसके बाद गौतम गंभीर और विराट कोहली ने पारी को संभाला। हालांकि कोहली को 35 रन के नि‍जी योग पर तिलकरत्‍ने दिलशान ने पवेलियन भेज दिया।

कोहली के आउट होने पर मैदान पर जब महेंद्र सिंह धोनी आए तो सब हैरान हो गए। क्‍योंकि उस समय युवराज सिंह शानदार फॉर्म में चल रहे थे और युवी की जगह धोनी को मैदान पर देख सभी के जेहन में एक ही सवाल था। लेकिन धोनी ने सबकों गलत साबित करते हुए मैच विनिंग नाबाद 91 रन बनाकर लौटे।

सहवाग का नया खुलासा

सहवाग ने विक्रम साठे के शो ‘वॉट का डक’के दौरान यह खुलासा किया है जहां सचिन तेंदुलकर भी मौजूद थे। सहवाग ने कहा कि इस अहम मैच में धोनी को उपरी क्रम में भेजने का सुझाव मास्‍टर ब्‍लास्‍टर सचिन तेंदुलकर ने दिया था। इसलिए मैंने भी उन्‍हें यही सुझाव दिया। यह पहला मौका था मैंने धोनी को सीधा जाकर यह मैसेज दिया। और परिणाम आपके सामने है।

बकौल सहवाग, ‘ इस बीच धोनी आए। उस समय विराट कोहली और गौतम बल्‍लेबाजी कर रहे थे। उन्‍होंने एमएस से कहा यदि दाएं हाथ का बल्‍लेबाज आउट होता है तो दाएं हाथ का भेजना और बाएं हाथ का आउट होगा तो बाएं हाथ का भेजना। इतना कहने के बाद वह बाथरूम में गए और जब वह लौटे उसके बाद विराट कोहली आउट हो चुके थे। उनकी जगह पर एमएस धोनी बैटिंग के लिए गए। इसलिए बेहतरीन फॉर्म में होने के बावजूद भी युवराज सिंह को चौथे नंबर पर बल्‍लेबाजी के लिए नहीं भेजा गया।’