श्रीनिवास वेंकटराघवन © Getty Images
श्रीनिवास वेंकटराघवन © Getty Images

पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट मैच में पूर्व भारतीय क्रिकेटर अनिल कुंबले के लिए 10 विकेट हर क्रिकेट प्रशंसक को अच्छी तरह याद हैं। कुंबले ने दिल्ली के फिरोज शाह कोटला मैदान पर 7 फरवरी 1999 को ये रिकॉर्ड बनाया था लेकिन कम लोग जानते हैं कि करीब 34 साल पहले इसी मैदान पर एक और भारतीय गेंदबाज ने इतिहास रचा था। साल 1965 में न्यूजीलैंड के भारत दौरे का चौथा टेस्ट कोटला में खेला गया था और इस मैच में पहली बार किसी भारतीय गेंदबाज ने विपक्षी टीम के पूरे 11 खिलाड़ियों को आउट किया था। ये गेंदबाज थे श्रीनिवास वेंकटराघवन।

मद्रास (अब चेन्नई) के रहने वाले 19 वर्षीय श्रीनिवास वेंकटराघवन ने इसी सीरीज के पहले टेस्ट मैच से अपने करियर की शुरुआत की थी। मैच की पहली पारी में वेंकटराघवन ने दो विकेट लिए थे लेकिन दूसरी पारी में उन्हें गेंदबाजी का मौका नहीं मिला। चार मैचों की इस सीरीज के तीनों मैच ड्रॉ रहे, जिसके बाद दिल्ली में खेले जाने वाले चौथे मैच में दोनों टीमों के सामने करो या मरो की स्थिति आ गई। न्यूजीलैंड के कप्तान जॉन रेड ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। वेंकटराघन ने केवल 7 के स्कोर पर न्यूजीलैंड को पहला झटका दिया, इसके बाद तो विकेटों की झड़ी लग गई। वेंकटराघवन ने अकेले कीवी टीम के आठ बल्लेबाजों को पवेलियन भेज दिया। वहीं भगवत चंद्रशेखर ने कप्तान जॉन रेड और ब्रूस टेलर को आउट किया, जबकि रिचर्ड कोलिंज नाबाद रहे। [ये भी पढ़ें: तीन मौके जब किसी बल्लेबाज के दोहरा शतक बनाने पर 153 रनों से जीता है भारत]

न्यूजीलैंड की टीम 262 के स्कोर पर ऑल आउट हो गई। टीम इंडिया ने पहली पारी में दिलीप सरदेसाई और मंसूर अली खान पटौदी के शतक की मदद से 465 का स्कोर खड़ा कर दिया। दूसरी पारी में वेंकटराघवन ने जॉन रेड, ब्रूस टेलर और रिचर्ड कोलिंज को आउट कर एक मैच में सभी 11 बल्लेबाजों को आउट करने का कीर्तमान अपने नाम कर लिया। वेंकटराघवन ये कारनामा करने वाले पहले भारतीय और विश्व के दूसरे क्रिकेटर बनें। उनसे पहले इंग्लैंड के जिम लेकर ने 1956 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में ये कारनामा किया था। [ये भी पढ़ें: वनडे रैंकिंग में नंबर एक बनने के करीब हैं मिताली राज]

खिलाड़ी देश विपक्षी टीम तारीख
जिम लेकर इंग्लैंड ऑस्ट्रेलिया 26 Jul 1956
श्रीनिवास वेंकटराघवन भारत न्यूजीलैंड 19 Mar 1965
जॉफ डिमॉक ऑस्ट्रेलिया भारत 2 Oct 1979
अब्दुल कादिर पाकिस्तान इंग्लैंड 25 Nov 1987
वकार यूनिस पाकिस्तान न्यूजीलैंड 26 Oct 1990
मुथैया मुरलीधरन श्रीलंका साउथ अफ्रीका 20 Jul 2000

1965 के बाद ऑस्ट्रेलिया के जॉफ डिमॉक, पाकिस्तान के अब्दुल कादिर और वकार यूनिस के साथ साथ श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन ने भी एक ही मैच में विपक्षी टीम के सभी 11 खिलाड़ियों को आउट करने का कीर्तिमान हासिल किया। हालांकि आज भी वेंकटराघवन ऐसा करने वाले पहले और आखिरी भारतीय खिलाड़ी हैं।