When Sachin Tendulkar miraculously healed a differently abled child
Sachin Tendulkar © IANS

विश्व के महानतम क्रिकेटर्स में शुमार सचिन तेंदुलकर मैदान पर जितने उम्दा बल्लेबाज थे, निजी जिंदगी में उतने ही बेहतर इंसान हैं। कोई उन्‍हें क्रिकेट का भगवान कहता है तो कोई रिकॉर्ड का बेताज बादशाह। हम बात कर रहे हैं बर्थ डे ब्वॉय सचिन तेंदुलकर की। जो क्रिकेट से संन्‍यास लेने के बाद भी अपने प्रशंसकों के बीच खासे लोकप्रिय हैं।

मैदान पर सचिन जहां एक तरफ विपक्षी गेंदबाजों की धुनाई करते थे उसके ठीक उलट बाहर वह नेक कामों में बढ़ चढकर हिस्‍सा लेते हैं। एक बुक लांच पर यह खुलासा हुआ कि कैसे सचिन ने अपने एक नन्‍हे प्रशंसक को नया जीवन दिया।

सचिन का बल्ला छूने भर से खड़ा हो गया था दिव्यांग

दरअसल, कुछ साल पहले सचिन चेन्‍नई में चाइल्‍ड ट्रस्‍ट हॉस्पिटल का दौरा करने पहुंचे थे। जहां दिव्यांग बच्‍चों में एक बच्‍चा सचिन का बहुत बड़ा प्रशंसक था। उस बच्‍चे के शरीर का 70-80 प्रतिशत हिस्सा काम नहीं करता था। उसने अपने पैरों पर चलने की उम्‍मीदें खो दी थी।

अरबों के मालिक सचिन कभी एक 'सिक्का' पाने के लिए घंटो बहाते थे पसीना
अरबों के मालिक सचिन कभी एक 'सिक्का' पाने के लिए घंटो बहाते थे पसीना

तेंदुलकर को इस बात का पता नहीं था और उन्होंने उस बच्चे को अपना एक बल्ला गिफ्ट किया। अब इसे जादू कहे या फिर भगवान का चमत्कार 11 साल का वह बच्‍चा खड़ा हो और अपने आदर्श के साथ तीन गेंद भी खेली।

दो दशक तक सचिन ने किया विश्व क्रिकेट पर राज

सचिन तेंदुलकर ने साल 1989 में भारत की तरफ से अपना पहला मैच खेला था। लगभग 24 साल से ज्यादा क्रिकेट के मैदान पर डटे रहने वाले सचिन के नाम 100 शतक बनाने का रिकॉर्ड है। इसके अलावा सबसे ज्यादा टेस्ट मैच और वनडे मैच खेलने का रिकॉर्ड भी सचिन के ही नाम है। साल 2013 के नवंबर में सचिन ने अपना आखिरी टेस्ट वेस्टइंडीज के खिलाफ खेला था।