Akran saifi resigns after being accused of seeking bribe
BCCI LOGO (FILE PHOTO)

बीसीसीआई ने आईपीएल अध्यक्ष राजीव शुक्ला के निजी स्टाफ के एक सदस्य को स्टिंग ऑपरेशन में उत्तर प्रदेश क्रिकेट टीम में खिलाड़ियों के चयन के लिए रिश्वत मांगने का आरोप लगने के बाद आज इस्तीफा देना पड़ा।

इंग्‍लैंड में इंडिया ए की शर्मनाक हार, इंग्‍लैंड लॉयंस ने 253 रन से रौंदा
इंग्‍लैंड में इंडिया ए की शर्मनाक हार, इंग्‍लैंड लॉयंस ने 253 रन से रौंदा

इससे पहले बीसीसीआई ने मामले की जांच तक इस स्टाफ को निलंबित कर दिया था।।

उत्तर प्रदेश के एक हिन्दी समाचार चैनल ने शुक्ला के कार्यकारी सहायक अकरम सैफी और क्रिकेटर राहुल शर्मा की कथित बातचीत का प्रसारण किया था जिसमें सैफी राज्य टीम में राहुल के चयन को सुनिश्चित करने के लिए ‘नगदी और दूसरी चीजों’ की मांग कर रहा है।

शुक्ला फिलहाल उत्तर प्रदेश क्रिकेट संघ (यूपीसीए) के निदेशक भी हैं। बोर्ड के अधिकारी ने बताया , ‘सैफी ने आपना इस्तीफा सौंप दिया है। इस बारे में जब शुक्ला से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि इसे तत्काल प्रभाव से स्वीकार किया जाना चाहिए।’

बीसीसीआई के एक अंतरिक संदेश में कहा गया , ‘प्रशासकों की समिति (सीओए) के अध्यक्ष और कार्यवाहक अध्यक्ष (सीके खन्ना) के बीच फोन पर हुई बातचीत के बाद बीसीसीआई के नियम 32 के तहत आयुक्त की नियुक्ति नहीं होने तक हम अकरम सैफी से उस पर लगे आरोपों पर स्पष्टीकरण की मांग करते हैं।’

इस संदेश की एक प्रति पीटीआई के पास भी है।

इसमें कहा गया , ‘सैफी के बयान की जांच आयुक्त करेंगे , जिनकी नियुक्ति होनी है।’ बीसीसीआई के नियम 32 के मुताबिक , किसी भी दुराचार की शिकायत का फैसला आयुक्त को करना होता है जिनकी नियुक्ति बोर्ड के अध्यक्ष सीके खन्ना अगले 48 घंटे में करेंगे।

आयुक्त को अपनी जांच की रिपोर्ट 15 दिनों के अंदर देनी होती है, जिसे बीसीसीआई की अनुशासन समिति के पास भेज दिया जाएगा। उन्होंने कहा , ‘जहां तक यूपीसीए से जुड़े मामले का सवाल है, वे अपने नियमों से इससे निपटेंगे।’