Allan Border believes Glenn Maxwell has all tools to have a successful Test career
मैक्सवेल ने सितंबर 2017 के बाद से कोई टेस्ट मैच नहीं खेला है © IANS

2 मार्च 2013 को भारत के खिलाफ अंतर्राष्ट्रीय टेस्ट डेब्यू करने वाले ग्लेन मैक्सवेल ने पिछले साल भारत दौरे पर करियर का पहला टेस्ट शतक लगाया था। अपने टेस्ट करियर में मैक्सवेल ने अब तक खेले 7 मैचों में केवल 339 रन बनाए हैं। सितंबर 2017 में आखिरी बार टेस्ट जर्सी में नजर आए मैक्सवेल को सफल टेस्ट खिलाड़ी नहीं माना जाता है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के पूर्व दिग्गज को लगता है कि इस ऑलराउंडर खिलाड़ी में क्रिकेट के सबसे लंबे फॉर्मेट में सफल होने की काबिलियत है। पूर्व ऑस्ट्रेलियाई एलेन बॉर्डर ने एसईएन रेडियो के दिए एक बयान में कहा कि मैक्सवेल अगर कुछ बातों को ध्यान में रखें तो वो टेस्ट क्रिकेट में सफल हो सकते हैं।

मुझे नहीं लगता टिम पेन ऑस्ट्रेलिया के लिए दीर्घकालिक विकल्प है: शेन वॉर्न
मुझे नहीं लगता टिम पेन ऑस्ट्रेलिया के लिए दीर्घकालिक विकल्प है: शेन वॉर्न

बॉर्डर ने कहा, “उसके पास बहुत प्रतिभा है। हमने कुछ टेस्ट मैचों में उसकी झलक भी देखी है। हमे सीमित फॉर्मेट में उसे देखते हैं लेकिन वो टेस्ट क्रिकेट भी आसानी से खेल सकता है। वो कुछ सीमाओं में बंधकर खेल रहा है जो कि उसके लिए मुश्किल हैं क्योंकि उसके पास हर गेंद के लिए शॉट है। टेस्ट क्रिकेट में सफल होने के लिए जरूरी है कि आप अपने सिर को संभालें।”

सीमित फॉर्मेट में मैक्सवेल एक धमाकेदार बल्लेबाज के साथ साथ पार्ट टाइम स्पिन गेंदबाज का काम भी करते हैं। टेस्ट क्रिकेट में भी मैक्सवेल के नाम 7 मैचों में 8 विकेट हैं। बॉर्डर ने आगे कहा, “मुझे निश्चित तौर पर लगता है कि उसकी काबिलियत की वजह से चयनकर्ता उस पर नजर बनाए हुए हैं। वो फील्ड में तेज हैं, धमाकेदार बल्लेबाजी करता है और ऑफ स्पिन गेंदबाजी भी कर लेता है। ये उसे टेस्ट टीम का हिस्सा बनाने के लिए काफी तर्क हैं। उम्मीद है कि वो सीजन की धमाकेदार शुरुआत करे और अपना नाम ध्यान में लाए।”