Anil Kumble’s contract with BCCI as head coach didn’t have extension clause, says CoA Vinod Rai
Virat Kohli with Anil Kumble (File Photo) © AFP

साल 2016-17 में टीम इंडिया का हैड कोच रहते हुए पूर्व स्पिन गेंदबाज अनिल कुंबले के कप्‍तान विराट कोहली से टसल की खबरें जगजाहिर हैं। कुंबले को दो साल के लिए भारत का हैड कोच बनाने की सिफारिश सचिन तेंदुलकर, सोरव गांगुली और वीवीएसल लक्ष्‍मण की कमेटी ने की थी। केवल एक साल पूरा करने के बाद ही कुंबले को इस पद से हटा दिया गया। जिसके बाद नए सिरे से कोच के पद के लिए आवेदन मंगाए गए और रवि शास्‍त्री की नियुक्ति नए कोच के रूप में कर दी गई।

इंग्‍लैंड की जीत के नायक बटलर को टिम पेन ने बताया धोनी से भी बेहतर
इंग्‍लैंड की जीत के नायक बटलर को टिम पेन ने बताया धोनी से भी बेहतर

बताया गया था कि अनिल कुंबले का बीसीसीआई के साथ करार केवल एक साल का ही हुआ है, लेकिन उनकी कोचिंग में टीम के अच्‍छे प्रदर्शन को देखते हुए उन्‍हें एक साल का और एक्‍सटेंशन मिलना तय माना जा रहा था, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। कुंबले को एक साल बाद हैड कोच के पद से हटाए जाने को लेकर अब बीसीसीआई के सीओए का बयान आया है।

टाइम्‍स ऑफ इंडिया अखबार से बातचीत के दौरान सीओए विनोद राय ने कहा, ” कुंबले के करार में एक्‍सटेंशन का कोई क्‍लॉज था ही नहीं। जिसके कारण उन्‍हें एक्‍सटेंशन नहीं दिया गया। हम नियमों से बंधे हुए थे। बोर्ड के पास कोच के पद के लिए नए आवेदन मंगाने के अलावा कोई और चारा ही नहीं था।

सीओए ने कहा, “ टीम के लिए कोच को चुनने की पूरी जिम्‍मेदारी सीएसी की है, जिसमें सचिन, गांगुली और लक्ष्‍मण शामिल हैं। जो भी आवेदन कोच के पद के लिए आते हैं उन्‍हें सीधे सीएसी के पास भेज दिया जाता है। हमने साफ कहा हुआ है कि जो भी सीएसी की एडवाइज होगी हम उसे ही मानेंगे। कई राउंड इंट्रव्‍यू के होने के बाद सीएसी ने ही रवि शास्‍त्री के नाम पर मोहर लगाई।