Ashish Nehra: Bowlers can play key role in making Royal Challengers Bangalore champions
युजवेंद्र चहल © BCCI

रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के गेंदबाजी कोच आशीष नेहरा ने उम्मीद जताई है की इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीजन में गेंदबाज टीम को पहला खिताब जिताने में अहम भूमिका निभाएंगे। बता दें कि आरसीबी पिछले 10 आईपीएल सीजन में एक बार भी ट्रॉफी नहीं जीत पाई है। आरसीबी की टीम में विराट कोहली, एबी डिविलियर्स और क्रिस गेल जैसे बल्लेबाज कई सीजन तक जुड़ें रहे हैं लेकिन फिर भी टीम कभी खिताब नहीं जीत पाई। हालांकि टीम ने तीन बार 2009, 2011 और 2016 में फाइनल का सफर तय किया है।

आरसीबी के साथ कम्प्यूटर और सॉफ्टवेयर बनाने वाली कंपनी ‘हेवलेट पैकर्ड (एचपी)’ प्रमुख प्रायोजक के तौर पर जुड़ रही है जिसके तहत टीम की जर्सी पर कंपनी का लोगो होगा। इस करार के मौके पर नेहरा ने कहा बल्लेबाजी हमेशा से आरसीबी का मजबूत पक्ष रहा है लेकिन इस बार टीम में कई विश्व स्तरीय गेंदबाज है जो टीम को पहली बार चैंपियन बनाने में अहम भूमिका निभा सकते है।

सीए की जांच के बाद ही डेविड वार्नर की कप्तानी पर फैसला लेगी सनराजर्स हैदराबाद: वीवीएस लक्ष्मण
सीए की जांच के बाद ही डेविड वार्नर की कप्तानी पर फैसला लेगी सनराजर्स हैदराबाद: वीवीएस लक्ष्मण

नेहरा ने कहा, ‘‘हमारे पास युजवेंद्र चहल और वाशिंगटन सुंदर जैसे फार्म में चल रहे गेंदबाज है। हालांकि सबको पता है कि बैंगलोर का मैदान गेंदबाजों के लिए ज्यादा मददगार नहीं है। पिछले साल गेंद को कुछ टर्न मिल रहा था, उससे पहले नौ साल तक 180 से 200 रन का लक्ष्य भी पीछा करने वाली टीम भी आसानी से जीत हासिल कर रही थी। मैं खुद दस साल तक आईपीएल खेला हूं और दूसरे डग आउट से आरसीबी को देखा है और उस मैदान में काफी खेला हूं। मेरा काम टीम के गेंदबाजों के साथ अपना अनुभव साझा करना है, चाहे वो नवदीप सैनी हो, उमेश यादव या चहल हो। सब अच्छे गेंदबाज है इसलिए टीम का हिस्सा है।’’

आईपीएल में 100 से ज्यादा विकेट लेने वालों में शामिल नेहरा ने कहा, ‘‘हम भाग्यशाली है कि ऐसे गेंदबाज टीम के साथ जुड़े हैं। ये ऐसे खिलाड़ी है जिनके लिए अगर हम बोली नहीं लगाते तो कोई और जरूर लगाता। मेरा पहला काम गेंदबाजों को बैंगलोर के मैदान पर क्या सर्वश्रेष्ठ हो सकता है ये बताना है क्योंकि हमे वहां सात मैच खेलने है।’’

टीम के कप्तान विराट कोहली के साथ अच्छे रिश्ते पर नेहरा ने कहा कि इससे टीम को फायदा होगा। उन्होंने कहा, ‘‘ये काफी जरूरी है कि कप्तान और कोच की सोच मिले। नेहरा ने कहा कि क्रिकेट में तकनीक के आने से कोच का काम थोड़ा आसान हुआ है। उन्होंने कहा, ‘‘टीम में इस बार कई ऐसे गेंदबाज है जिन्हें ज्यादा अनुभव नहीं लेकिन वे प्रतिभाशाली है जिसमें मोहम्मद सिराज, नवदीप सैनी और कुलवंत खेजरोलिया शामिल है ऐसे गेंदबाजों को तकनीक की मदद से मैं चीजों को बेहतर तरीके से समझा सकूंगा।’’