Babar Azam, Fakhar Zaman lead Pakistan clean sweep T20I against Windies
जीत के बाद जश्‍न मनाते पाकिस्‍तानी खिलाड़ी © AFP

बाबर आजम (51) के शानदार अर्धशतक के दम पर पाकिस्तान ने मंगलवार देर रात खेले गए तीन टी-20 मैचों की सीरीज के आखिरी मैच में वेस्टइंडीज को आठ विकेट से हराकर 3-0 से सीरीज अपने नाम कर ली। वेस्टइंडीज ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी चुनी, लेकिन पाकिस्तान के गेंदबाजों ने उसे निर्धारित 20 ओवरों में छह विकेट के नुकसान पर 153 रनों तक ही सीमित कर दिया। मेजबान पाकिस्तान ने इस लक्ष्य को 16.5 ओवरों में दो विकेट खोकर हासिल कर लिया।

डीन एल्गर ने ली चुटकी, कहा- मैने अबतक ऑस्‍ट्रेलियाई टीम को मैदान पर इतने शांत अंदाज में खेलते नहीं देखा
डीन एल्गर ने ली चुटकी, कहा- मैने अबतक ऑस्‍ट्रेलियाई टीम को मैदान पर इतने शांत अंदाज में खेलते नहीं देखा

आजम ने अपनी पारी में 40 गेंदों का सामना किया और छह चौके लगाए। उन्हें टीम के 113 के कुल स्कोर पर चाडविक वाल्टन ने आउट किया। आउट होने से पहले उन्होंने फखर जमन (40) के साथ मिलकर टीम को शानदार शुरुआत दी। फखर ने तूफानी अंदाज में खेलते हुए 17 गेंदों की पारी में छह चौके और दो छक्के लगाए। फखर के रूप में पाकिस्तान का पहला विकेट छठे ओवर की दूसरी गेंद पर 62 के कुल स्कोर पर गिरा। इसके बाद आजम ने तलत हुसैन (नाबाद 31) के साथ मिलकर टीम को जीत की स्थिति में पहुंचाया।

आजम के बाद मैदान पर आए आसिफ अली (नाबाद 25) ने हसन के साथ मिलकर टीम को जीत दिलाई। इससे पहले, वेस्टइंडीज के लिए आंद्रे फ्लैचर ने 43 गेंदों में चार चौके और तीन छक्कों की मदद से 52 रनों की पारी खेली। मार्लोन सैमुअल्स ने 32 रन बनाए। दिनेश रामदीन ने नाबाद 42 रन बनाते हुए टीम को 150 के पार पहुंचाया। उन्होंने 18 गेंदों पर चार चौके और तीन छक्के लगाए।

बता दें कि पाकिस्‍तान में करीब एक दशक बाद धीरे-धीरे अंतरराष्‍ट्रीय क्रिकेट की वापसी हो रही है। आर्थिक संकट से जूझ रहे वेस्‍टइंडीज के क्रिकेट बोर्ड ने अपनी टीम को पाकिस्‍तान में खेलने की हामी भर दी। इससे पहले पाकिस्‍तान सुपर लीग के दौरान पाकिस्‍तान क्रिकेट बोर्ड ने विदेशी खिलाड़ियों को पाकिस्‍तान बुलाने का प्रयास किया था। हालांकि अधिकतर खिलाड़ियों ने आखिरी मौके पर पाकिस्‍तान में खेलने के लिए जाने से इंकार कर दिया था। साल 2009 में पाकिस्‍तान दौर के दौरान श्रीलंका की टीम पर आतंकवादी हमला हुआ था। इस हमले में कई श्रीलंकाई खिलाड़ी घायल हुए थे। जिसके बाद से ही पाकिस्‍तान में कोई भी टीम सुरक्षा कारणों से खेलने के लिए नहीं जाती है।