Brett Lee: Aggression is fine, we do not want robots to play cricket
ब्रेट ली © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया के पूर्व तेज गेंदबाज ब्रेट ली ने कहा कि भावनाएं और आक्रामकता खेल का हिस्सा हैं और वो मैदान पर रोबोट को क्रिकेट खेलते नहीं देखना चाहते हैं। हालांकि इसके साथ ही उन्होंने खिलाड़ियों को सलाहा दी कि वो अपने व्यवहार से ‘सीमा नहीं लांघे’। ऑस्ट्रेलिया का हालिया दक्षिण अफ्रीका दौरा मैदान पर झड़प के कारण भी चर्चा में रहा है। दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज कगिसो रबाडा पर दूसरे टेस्ट मैच के दौरान ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीवन स्मिथ के साथ कंधा टकराने के कारण दो मैच का बैन लगा है। रबाडा ने इसके खिलाफ अपील की है और उन्हें केप टाउन टेस्ट खेलने की उम्मीद है।

दिनेश कार्तिक हर स्थिति के लिए तैयार रहता है: रोहित शर्मा
दिनेश कार्तिक हर स्थिति के लिए तैयार रहता है: रोहित शर्मा

ली ने कहा कि नियंत्रित आक्रामकता खेल के लिए अच्छी होती है। उन्होंने भारत और बांग्लादेश के बीच कोलंबो में ट्राई टी20 फाइनल के दौरान उन्होंने कहा, ‘‘मैं ईमानदारी के साथ यही कहना चाहूंगा कि हम मैदान पर रोबोट नहीं चाहते हैं।’’
ली ने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर हर एक चीज की एक सीमा होती है जिसे खिलाड़ियों को नहीं लांघना चाहिए। आप किसी पर नस्लीय टिप्पणी नहीं करें, आप किसी के खिलाफ ऐसे अपशब्दों का उपयोग नहीं करें जो उसे सुनने वाले बच्चों को परेशान कर सकते हों। इसके अलावा आपको कड़ी क्रिकेट खेलनी होगी।’’

दरअसल हाल ही में क्रिकेट के मैदान पर इस तरह की कई घटनाएं देखने को मिली हैं। ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका टेस्ट सीरीज के दौरान विकेटकीपर बल्लेबाज क्विंटन डी कॉक ने डेविड वॉर्नर की पत्नी पर निजी टिप्पणी की थी। जिसके बाद वॉर्नर काफी भड़क गए थे। वहीं दूसरे टेस्ट मैच के दौरान रबाडा ने वॉर्नर को आक्रामक सेंड ऑफ किया था। वही निदाहास ट्रॉफी के छठें टी20 मैच में बांग्लादेश और श्रीलंका के खिलाड़ियों के बीच भी झड़प देखने को मिली थी। आईसीसी ने सभी मामलों पर गौर किया है और खिलाड़ियों पर जरूरी सजा और जुर्माना लगाया है।