Chennai Super Kings backed MS Dhoni to hilt that helped the team, says Sourav Ganguly
Sourav Ganguly, MS Dhoni ©AFP

2007 में महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में एक युवा भारतीय टीम पहली बार जब टी20 विश्व कप खेलने गई थी तो किसी ने उनकी जीत की उम्मीद नहीं की थी। लेकिन पहली बार टीम की कप्तानी कर रहे धोनी ने सभी को गलत साबित कर खिताब जीता। इस जीत के 11 साल बाद धोनी ने एक ऐसी टीम को फिर से टी20 खिताब जिताया, जिसे इस फॉर्मेट के लिए फिट नहीं माना जा रहा था। धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपरकिंग्स की ‘उम्रदराज’ कही जाने वाली टीम ने इंडियन प्रीमियर लीग के 11वें सीजन का खिताब जीता। पिछले दो आईपीएल सीजन राइजिंग पुणे सुपरजायंट के साथ खेलने के बाद सीएसके में लौटे धोनी के प्रदर्शन में भी सुधार आया। भारतीय टीम के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली का मानना है कि सीएसके टीम में धोनी को जिस तरह का समर्थन मिलता है, उसी की वजह से वो अच्छा प्रदर्शन कर पाते हैं।

link-to-post url=”http://www.cricketcountry.com/hi/news/shakib-al-hasan-afghanistan-is-two-steps-ahead-of-us-so-they-are-favorites-for-t20i-series-716784″][/link-to-post]

धोनी ने एक बंगाली अखबार को दिए इंटरव्यू में कहा, “धोनी इस आईपीएल में काफी शांत और आराम में नजर आए। वो ऐसी जगह थे जिसके बारे में उन्हें सबकुछ पता है, साथ ही फ्रेंचाइजी ने भी उन्हें पूरा समर्थन दिया, जिससे टीम को भी फायदा मिला।” धोनी की कप्तानी में चेन्नई सुपरकिंग्स ने तीसरी बार आईपीएल का खिताब जीता है। साथ ही बतौर बल्लेबाज इस सीजन उन्होंने 16 मैचों में 150 की स्ट्राइक रेट से 455 रन बनाए हैं, जिसमें तीन अर्धशतक शामिल हैं। पिछले सीजन (16 मैच-290 रन-116 स्ट्राइक रेट) के मुकाबले धोनी के प्रदर्शन में सुधार साफ देखा जा सकता है और इसका एक कारण एक कारण सीएसके में धोनी को मिलने वाला समर्थन है।

गांगुली की माने को सीएसके टीम धोनी को ये महसूस कराती है कि वो कितने अहम है और टीम को उनकी जरूरत है। हर खिलाड़ी अपने आप को जरूरी महसूस कराना चाहता है और सीएसके टीम धोनी को ऐसा ही माहौल देती है।