पुजारा और साहा © AFP
पुजारा और साहा © AFP

टीम इंडिया ने ऑस्ट्रेलिया के पहली पारी में 451 के जवाब में अपनी पहली पारी 603/9 के स्कोर के साथ घोषित कर दी और इस तरह पहली पारी के आधार पर 152 रनों की बढ़त बना ली। टीम इंडिया की पारी में पुजारा ने दोहरा शतक(202), साहा ने शतक(117) वहीं अन्य तीन बल्लेबाजों राहुल, मुरली और जडेजा ने अर्धशतक जमाए। वैसे तो इस दौरान कई साझेदारियां देखने को मिलीं। लेकिन सबसे बड़ा रिकॉर्ड साहा- पुजारा की जोड़ी ने एक बड़ी साझेदारी बनाते हुए मुकम्मल किया। दोनों ने सातवें विकेट के लिए 199 रनों की साझेदारी निभाई और इसके साथ ही भारत की ओर से सातवें विकेट के लिए सबसे बड़ी साझेदारी बनाने का रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया।

यह रिकॉर्ड उनके पहले विजय हजारे और हेमू की जोड़ी के नाम था। जिन्होंने 69 साल के पहले साल 1948 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 132 रनों की साझेदारी निभाई थी। इस मैच में हजारे ने 145 और हेमू ने 51 रनों की पारी खेली थी। यह रिकॉर्ड कुल सात दशकों तक नहीं तोड़ा जा सका था। चूंकि, मौजूदा समय में भारतीय बल्लेबाजी की गहराई काफी बढ़ गई है। इसलिए ये रिकॉर्ड टूटना लाजिमी है। [भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया, तीसरा क्रिकेट टेस्ट मैच, लाइव स्कोरकार्ड जानने के लिए क्लिक करें...]

टीम इंडिया का छठवां विकेट रविचंद्रन अश्विन के रूप में 328 के योग पर गिरा था। अंततः इन दोनों बल्लेबाजों ने आपस में 199 रनों की साझेदारी निभाई और टीम इंडिया को बड़े स्कोर की ओर ले गए। पुजारा का ये टेस्ट में तीसरा दोहरा शतक है। वहीं, साहा का ये टेस्ट में तीसरा शतक है। टीम इंडिया की इस सीरीज में शुरुआत कुछ खास नहीं रही थी और पहले ही टेस्ट में 333 रनों से हार का सामना करना पड़ा था। इसके बाद बेंगलुरू टेस्ट में टीम इंडिया ने जीत दर्ज करते हुए सीरीज में 1-1 से बराबरी कर ली। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि रांची टेस्ट में जीत किसके पाले में आती है।