CSK coach Stephen Fleming: The desire to get back and do well in the competition was high
Stephen Fleming and MS Dhoni © IANS

दो साल बाद टूर्नामेंट में जबरदस्त वापसी कर चेन्नई सुपरकिंग्स ने तीसरा आईपीएल खिताब जीत लिया है। सीएसके टीम के साथ 11 साल से जुड़े कोच स्टीफेन फ्लेमिंग का कहना है कि ये सीजन टीम के लिए सबसे मुश्किल था लेकिन खिलाड़ियों के मन में जबरदस्त वापसी करने की इच्छा थी। फ्लेमिंग ने कहा, “अगर आप सभी टीमों की बात करें तो हमसे जीत की उम्मीद काफी ज्यादा थी। प्रतियोगता में वापस लौटने और अच्छा प्रदर्शन करने को लेकर टीम के साथ काफी सारी भावनाएं जुड़ी थी। फ्रेंचाइजी के लिए दो साल मुश्किल थे, इसमें कोई दोराय नहीं है लेकिन वापसी कर अच्छा प्रदर्शन करने की इच्छा बेहद मजबूत थी।”

IPL 2018 FINAL: वॉटसन के शतक से चेन्‍नई ने तीसरी बार किया खिताब पर कब्‍जा
IPL 2018 FINAL: वॉटसन के शतक से चेन्‍नई ने तीसरी बार किया खिताब पर कब्‍जा

अनुभव ही सीएसके की जीत की कुंजी

करप्शन विवाद के चलते दो साल का बैन लगने के बाद टीम पर मजबूत वापसी का दबाव था, वहीं एक मैच के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स को अपना घरेलू मैदान चेपॉक भी छोड़ना पड़ा लेकिन इन सबके बावजूद टीम ने लगातार शानदार प्रदर्शन कर खिताब तक का सफर तय किया। नीलामी के दौरान सीएसके को चुने खिलाड़ियों की उम्र को लेकर काफी आलोचना का सामना करना पड़ा। फ्लेमिंग ने भी माना कि ये साल काफी मुश्किल था क्योंकि सभी टीमें नीलामी को लेकर काफी स्मार्ट हो चुकी हैं लेकिन उन्हें पता था कि अनुभव इस सीजन टीम की जीत में बड़ी भूमिका निभाएगा। फ्लेमिंग ने कहा, “जिस तरह से अनुभवी खिलाड़ियों ने अपने आप को साबित किया, स्मार्ट तरीके ने नहीं बल्कि जिस तरह से हमने उन पर भरोसा जताया, मुझे उन पर गर्व है। हमे विश्वास था कि प्रतियोगिता में वापसी करने में अनुभव हमारे लिए सबसे अहम साबित होगा।”

चेन्नई से पुणे के सफर में हुए कई बदलाव

फ्लेमिंग पहले ही कह चुके हैं कि नीलामी के दौरान वो ऐसी टीम चुनने बैठे थे जो चेपॉक के मैदान पर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सके। लेकिन जब चेन्नई का घरेलू मैदान पुणे शिफ्ट कर दिया तो कोच को झटका लगा। हालांकि इस शिफ्ट के साथ सामंजस्य बिठाने के लिए फ्लेमिंग को अपने खिलाड़ियों पर गर्व है। उन्होंने कहा, “हम एक कॉम्बिनेशन ढूंढने के लिए साल भर बदलाव करने पड़े। हम आमतौर पर जितने बदलाव करते हैं, हमे इस साल उससे कहीं ज्यादा बदलाव करने पड़े। अचानक से हम थोड़ी बहुत स्पिन के साथ सीम-बेस्ड टीम बन गए। ये रणनीति में बहुत बड़ा बदलाव था, खासकर तब, जब आपकी रणनीति एक स्लो टीम बनने की हो, जिसके खिलाड़ी स्पिन अच्छा खेलते हैं। इसलिए मुझे गर्व है कि खिलाड़ियों ने इस बदलाव के साथ खुद को ढाल लिया। मुझे गर्व है कि हर बार मुश्किल हालातों में एक नया खिलाड़ी टीम के लिए खड़ा हुआ।”

शेन वाटसन स्टार खिलाड़ी 

सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ फाइनल मैच में शतक लगाकर मैन ऑफ द मैच रहे शेन वाटसन को कोच ने स्टार खिलाड़ी बताया। फ्लेमिंग ने कहा, “सनराइजर्स का शुरुआती स्पेल शानदार था। 10 गेंदो पर शायद उसने कोई भी रन बनाया था। पहले चार-पांच ओवर में ही असली लड़ाई थी। फाइनल के हिसाब से ये बेहद शानदार था। शेन ने धीरे धीरे लय हासिल की। उसने धैर्य दिखाया और हिम्मत नहीं हारी। उसे पता था कि उसकी धमाकेदार बल्लेबाज हमें मुश्किल से निकाल लेगी और उसने बड़े शानदार तरीके से ऐसा किया। वो हमारे लिए स्टार परफॉर्मर रहा है।”

कोच फ्लेमिंग ने केवल बल्लेबाजों नहीं बल्कि गेंदबाजों लुंगी नगिडी और शार्दुल ठाकुर की भी जमकर तारीफ की। उन्होंने कहा, “नगिडी और शार्दुल ने 9 रन से कम वाले दो अच्छे ओवर डाले। हम 180 से कम किसी भी स्कोर से खुश थे।”