Dale Steyn: Ball tampering is Bowler’s cry for help
Dale Steyn © Getty Images

दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज डेल स्टेन का मानना है कि बॉल टैंपरिंग गेंदबाजों की ओर से मदद की गुहार है। लगातार बदलते नियमों के चलते क्रिकेट के खेल में बल्लेबाजों का दबदबा बढ़ता जा रहा है, स्टेन ने अधिकारियों का ध्यान इस ओर खींचने की कोशिश की।

स्टेन ने राउटर्स को दिए इंटरव्यू में कहा, “गेंद से छेड़छाड़ सही नहीं है लेकिन अगर आप इस बारे में सोचे तो ये एक तरह से मदद की गुहार है। हमे कुछ करना होगा। आजकल कितनी सारी चीजें बल्लेबाजों के पक्ष में हैं। छोटे मैदान, दो नई गेंद, पावरप्ले, बल्ले भी जरूरत से ज्यादा बड़े होते जा रहे हैं, ये लिस्ट लगातार लंबी हो रही है। अगर आप नो बॉल करते हैं तो फ्री हिट है। लेकिन मैने नियमों में एक ऐसा बदलाव नहीं देखा जो कि गेंदबाज के पक्ष में हो।”

कार्तिक टीम इंडिया के 'लकी चार्म', दोहराएगा 2007 का इतिहास ?
कार्तिक टीम इंडिया के 'लकी चार्म', दोहराएगा 2007 का इतिहास ?

दक्षिण अफ्रीका के सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज बनने से एक कदम दूर खड़े स्टेन का मानना है कि गेंद को स्विंग कराने की जरूरत ने खिलाड़ियों को नियम के साथ छेड़छाड़ करने पर मजबूर कर दिया है। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ टेस्ट के दौरान ऑस्ट्रेलिया खिलाड़ी कैमरून बैनक्रॉफ्ट सैंडपेपर की मदद से गेंद की स्थिति बदलते हुए कैमरे पर पकड़े गए थे। मामले की जांच के बाद क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने बैनक्रॉफ्ट के साथ कप्तान स्टीवन स्मिथ और उप कप्तान डेविड वार्नर पर बैन लगाया।

स्टेन ने आगे कहा, “ये एक बड़ी याचिका है, खेल से रिवर्स स्विंग गायब होते देखना बेहद दुखद होगा। मैं वसीम अकरम, वकार यूनिस को देखकर बड़ा हुआ और ये सभी दिग्गज गेंद को रिवर्स स्विंग कराते थे। आजकल आपको यही देखने को नहीं मिलता है। युवा तेज गेंदबाज किससे प्रेरणा लेंगे जब उन्हें प्रेरित करने के लिए कोई नहीं होगा। आप चाहें तो मैच में बॉल मशीन का इस्तेमाल करें और हर कोई बल्लेबाज बनने का अभ्यास करे।”

स्मिथ-वार्नर के बॉल टैंपरिंग स्कैंडल के बाद श्रीलंकाई कप्तान दिनेश चांदीमल वेस्टइंडीज के खिलाफ मैच में कुछ इसी तरह की हरकत करते नजर आए। जिसके बाद आईसीसी ने बॉल टैंपरिंग आरोप की सजा कड़ी कर दी लेकिन खेल में संतुलन लाने के लिए काउंसिल अब भी कोई बड़ा कदम नहीं उठा रही है।

दक्षिण अफ्रीकी क्रिकेटर ने कहा, “उन्होंने नियम बदला और कहा कि हम खेल में दो नई गेंद ला रहे हैं। जब मैं उपमहाद्वीप में गेंदबाजी कर रहा हूं तो मुझे नई गेंद नहीं चाहिए। मुझे पुरानी गेंद चाहिए, जिसे मैदान के बाहर नहीं मारा जा सकता। मुझे ऐसी गेंद चाहिए जिसमें उछाल ना हो, ताकि बल्लेबाज उसे हिट ना कर सके। ये नियम गेंदबाज को मदद नहीं करते हैं, ये केवल बल्लेबाज के पक्ष में हैं।”