Dale Steyn: Bowlers will have less sleepless nights after AB de Villiers retirement
Dale Steyn, AB de Villiers © Getty Images

हाल ही में दक्षिण अफ्रीका के दिग्गज बल्लेबाज एबी डिविलियर्स ने अचानक संन्यास का ऐलान कर सभी को चौंका दिया था। फैंस ही नहीं डिविलियर्स के साथी खिलाड़ी और कोच भी उनके इस फैसले से हैरान थे। वहीं 11 साल की उम्र से डिविलियर्स के साथ क्रिकेट खेलने वाले डेल स्टेन को भी उनके संन्यास के फैसले से झटका लगा है। क्रिकेटमंथली को दिए इंटरव्यू में स्टेन ने डिविलियर्स के संन्यास पर बात की। पहले प्रथम श्रेणी और फिर टेस्ट क्रिकेट में डिविलियर्स के साथ डेब्यू करने वाले स्टेन ने बताया कि वो एबी के संन्यास से काफी निराश हैं, हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि इससे कई गेंदबाजों को थोड़ी राहत जरूर मिली होगी।

डिविलियर्स के संन्यास से पहले इस दिग्गज ने की थी बात, नहीं बदला फैसला
डिविलियर्स के संन्यास से पहले इस दिग्गज ने की थी बात, नहीं बदला फैसला

दक्षिण अफ्रीकी तेज गेंदबाज ने कहा, “इस बात से निराशा जरूर होगी कि वो अब क्रिकेट नहीं खेलेगा। अगर आप किसी गेंदबाज से पूछोगे तो वो एबी के खिलाफ गेंदबाजी करने की चुनौती चाहेगा। हां लेकिन अंतर्राष्ट्रीय टीमों में थोड़ी राहत तो जरूर होगी कि अब उनके निपटने के लिए एक खिलाड़ी कम हो गया। एबी एक गजब का खिलाड़ी है। हाल ही में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई सीरीज में भी सब इसी बारे में बात कर रहे थे। मैने हमेशा ही सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों के खिलाफ खेलना पसंद किया है, इसलिए जब आप किसी अच्छे खिलाड़ी को अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट छोड़ते देखते हो, तो ये दुख का दिन होता है क्योंकि अपने आप को सर्वश्रेष्ठ के खिलाफ चुनौती देने का मतलब खत्म हो जाता है। हालांकि विपक्षी टीमों के लिए ये राहत की बात है क्योंकि कई गेंदबाज कहेंगे, “अब मुझे रातभर आसानी से नींद आएगी।”

डिविलियर्स ने दक्षिण अफ्रीका टीम की कप्तानी की जिम्मेदारी लेने के बाद कहा था कि वो विश्व कप जीतना चाहते हैं। लेकिन 2015 विश्व कप से बाहर होने के बाद टीम को तगड़ा झटका लगा था। स्टेन ने इस बारे में कहा, “किसी को भी ये एहसास नहीं होता कि आप चार साल विश्व कप जीतने के लिए योजना बनाते हैं लेकिन बाहर होने के बाद क्या करना है इसकी कोई रणनीति नहीं होती। हम सीनियर खिलाड़ियों के सामने सबसे बड़ी चुनौती थी कि जब हम विश्व कप से बाहर हो गए थे तो हम क्या करें? हमसे से कई धीमे पड़ गए, कुछ लोग ब्रेक पर चले गए लेकिन एबी लगातार अच्छा खेलता रहा। इससे पता चलता है कि वो कितना अच्छा इंसान है। उस पर हम सबसे ज्यादा दबाव था क्योंकि वो कप्तान था।”

स्टेन का मानना है कि एबी को विश्व कप से परिभाषित नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा, “सभी उसे पसंद करते और उसकी तारीफ करते हैं। उसने कभी विश्व कप नहीं जीता। उसने बेहतरीन क्रिकेट खेलकर खुद को साबित किया, लोगों का मनोरंजन किया, एक अद्भुत शख्स बनकर सबका दिल जीता।”

डिविलियर्स के प्रतिद्वंदी स्वभाव के बारे में बात करते हुए स्टेन ने एक पुराने किस्से को याद किया। स्टेन ने बताया, “एबी ज्यादा एडवेंचरस शख्स नहीं है, वो फिशिंग या बंजी जंपिंग नहीं करेगा लेकिन वो एक प्रतिभाशाली खिलाड़ी है और बेहद ज्यादा प्रतिद्वंदी है। 2015 विश्व कप के दौरान हम मैच से पहले वार्म अप के लिए वेस्टइंडीज के खिलाफ फुट वॉली खेल रहे थे, जहां एबी की टीम हार गई थी। उसके बाद एबी इतना ज्यादा गुस्सा हो गया। मैच खेलने जाते समय उसने कहा, “मैं इन लोगों को बर्बाद कर दूंगा।” उस मैच में उसने नाबाद 162 रन बनाए थे।”

क्रिकेट जगत में डिविलियर्स के योगदान के बारे में बात करते हुए स्टेन ने कहा, “कुछ अच्छे खिलाड़ी होते हैं, कुछ बहुत अच्छे खिलाड़ी होते हैं और फिर कुछ ही एबी डिविलियर्स जैसे खिलाड़ी होते हैं।” स्टेन का कहना है कि एबी डिविलियर्स के संन्यास के बाद क्रिकेट ने अपना सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी खो दिया है।