Deepak Chahar is not a slogger, says Hrishikesh Kanitkar
Deepak Chahar (File Photo) © IANS

आईपीएल 2018 के आखिरी लीग मुकाबले में चेन्‍नई सुपर किंग्‍स ने किंग्‍स इलेवन पंजाब को पांच विकेट से हरा दिया। इसके साथ ही चेन्‍नई ने पंजाब के आईपीएल के सफर को भी खत्‍म कर दिया। इस मैच में पंजाब की टीम 153 रन पर ऑलआउट हो गई। लक्ष्‍य का पीछा करने उतरी चेन्‍नई की टीम ने 27 रन पर ही अपने तीन विकेट खो दिए। कैप्‍टन कूल महेंद्र सिंह धोनी ने सभी को चौकाते हुए पांचवे नंबर पर हरभजन सिंह और छठे स्‍थान पर दीपक चाहर को बल्‍लेबाजी करने के लिए भेज दिया था।

इंग्लैंड की तरफ से ‘एक और डेब्यू’ का लुत्फ उठा रहे हैं बटलर
इंग्लैंड की तरफ से ‘एक और डेब्यू’ का लुत्फ उठा रहे हैं बटलर

दीपक, भज्‍जी के बल्‍लेबाजी क्रम में बदलाव से सभी थे दंग

मैच के बाद धोनी ने बैटिंग ऑर्डर में इस बदलाव पर कहा, ” मैने मैदान पर थोडी हलचल बढ़ाने के लिए ऐसा किया था। पंजाब के अंकित राजपूत को काफी स्विंग मिल रही थी। बतौर कप्‍तान आप ऐसी स्थिति में विरोधी टीम के ज्‍यादा से ज्‍यादा विकेट निकालना चाहते हो। धोनी ने कहा, “भज्‍जी और चाहर के लिए पंजाब ने कोई योजना नहीं बनाई थी। दोनों के मैदान पर आते ही गेंदबाज अचानक यार्कर और बाउंसर मारने लगे। बाद में जब प्रमुख गेंदबाज खेलने आए तो गेंदबाज सही लाइन और लैंथ पर टिक नहीं पाए।”

चाहर नहीं हैं पुछल्‍ले बल्‍लेबाज

धोनी द्वारा दीपक चाहर और भज्‍जी को उपर भेजकर गेंदबाजों को कंफ्यूज करने की रणनीति वाले बयान पर 90 के दशक में भारतीय टीम का हिस्‍सा रहे पूर्व बल्‍लेबाज ऋषिकेश कनितकर अलग राय रखते हैं। उन्‍होंने कहा, “हर किसी को लगता है कि दीपक चाहर एक स्‍लागर है, लेकिन ये सच नहीं है। वास्‍तव में वो एक अच्‍छा बल्‍लेबाज भी है जो अपनी बैटिंग से किसी को भी सरप्राइज कर सकता है।”

इस सीजन में चाहर का प्रदर्शन

दीपक ने इस सीजन में चेन्‍नई की तरफ से 10 मैच खेले, जिसमें उन्‍होंने 7.35 की इकनॉमी से नौ विकेट निकाले। बल्‍लेबाजी में निचले क्रम में आने के कारण ज्‍यादा मौके नहीं मिले। 10 मैचों में उन्‍हें महज तीन बार बल्‍लेबाजी करने का मौका मिला, जिसमें उन्‍होंने करीब 174 की स्‍ट्राइकरेट से 40 रन बनाए। इस सीजन में उनका सर्वश्रेष्‍ठ स्‍कोर 39 रन रहा।