Ex-coach Lalachand Rajput says time will tell how Afghanistan succeed in Test cricket
Lalchand Rajput © AFP

अफगानिस्तान के लिए भारत के खिलाफ डेब्‍यू टेस्ट मैच को  ‘ भावनात्मक क्षण ’ करार देते हुए पूर्व कोच लालचंद राजपूत ने कहा कि यह समय ही बताएगा कि वे खेल के लंबे प्रारूप में कैसे सफलता हासिल करेंगे।

भारत के खिलाफ भारत में टेस्‍ट खेलने वाले दूसरे सबसे युवा बने मुजीब
भारत के खिलाफ भारत में टेस्‍ट खेलने वाले दूसरे सबसे युवा बने मुजीब

राजपूत के कोच रहते हुए ही अफगानिस्तान ने टेस्ट दर्जा हासिल किया था। अफगानिस्तान के पूर्व कोच ने जिम्बाब्वे से फोन पर कहा ,‘ यह ऐतिहासिक टेस्ट मैच और अफगानिस्तान के खिलाड़ियों के लिये भावनात्मक क्षण है।’

उन्होंने कहा , ‘ मैं उनके लिए वास्तव में खुश हूं। हमने इस मुकाम पर पहुंचने के लिए वास्तव में कड़ी मेहनत की और उम्मीद है कि वे इसे आगे भी बरकरार रखेंगे।’ अफगानिस्तान बैंगलोर में भारत के खिलाफ अपना डेब्‍यू टेस्ट मैच खेल रहा है।

राजपूत ने कहा ,‘छोटे प्रारूप में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया है और उन्हें अब लंबे प्रारूप की जटिलताओं से जूझना है। यह समय के साथ ही पता चलेगा कि वे इसमें सफल रहेंगे या नहीं। राशिद खान एक गेंदबाज हैं जो लंबे प्रारूप से सामंजस्य बिठा सकते हैं लेकिन टेस्ट मैच पूरी तरह से अगल तरह का खेल है।’

साल 1995 में अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड की स्थापना हुई थी। 2001 में अफगानिस्तान की टीम को आईसीसी का अफिलीएटेड मेंबर बनने का मौका मिला। आईसीसी ने जून 2017 में अफगानिस्तान को टेस्ट टीम का दर्जा देने का ऐलान किया। यह इस टीम के लिए बहुत बड़ा दिन था जब टीम को क्रिकेट के सबसे अहम फॉर्मेट में खेलने की अनुमति मिली।