Faf du Plessis asks ICC whether chewing gum is allowed
Faf du Plessis © Getty Images

ऑस्ट्रेलिया-दक्षिण अफ्रीका टेस्ट के दौरान हुई बॉल टैंपरिंग की घटना के बाद गंभीर हुई आईसीसी ने हाल ही में गेंद से छेड़छाड़ को लेवल 2 से बदलकर लेवल 3 का अपराध कर दिया है। अब बॉल टैंपरिंग मामले में आरोपी साबित होने वाले खिलाड़ी पर 6 टेस्ट या 12 वनडे मैचों का बैन लग सकता है। हालांकि खिलाड़ियों के बीच इस नियम को लेकर कई सारे सवाल हैं। दक्षिण अफ्रीका के कप्तान फाफ डु प्लेसिस भी इससे अलग नहीं है। उन्होंने आईसीसी से पूछा है कि क्या मैच के दौरान च्विंगम या मिंट खा सकते हैं या नहीं?

धोनी ने साक्षी-जीवा संग मनाया जन्मदिन; विराट-अनुष्का भी मौजूद रहे
धोनी ने साक्षी-जीवा संग मनाया जन्मदिन; विराट-अनुष्का भी मौजूद रहे

दो बार बॉल टैंपरिंग अपराध में दोषी पाए गए डु प्‍लेसिस के मन में अब भी इस नियम को लेकर कई शंकाए हैं। डु प्‍लेसिस का कहना है कि, “ये कहना जरूरी है कि मुझे अब भी टैंपरिंग को लेकर पूरी जानकारी नहीं है। आईसीसी ने सजा और कड़ी कर दी है लेकिन उन्होंने अब भी साफ नहीं किया कि खिलाड़ियों को क्या लेने की इजाजत है और क्या नहीं। क्या च्विंगम खाने की इजाजत है? क्या नहीं? क्या मिंट लेने की इजाजत है? हाशिम आमला मैदान में रहने के दौरान कुछ मीठा खा लेते हैं, इसमें कुछ गलत नहीं है।”

दक्षिण अफ्रीकी टीम फिलहाल श्रीलंका दौरे पर है और कप्तान चाहते हैं कि सीरीज शुरू होने से पहले सारी बातें साफ हो जाएं। उन्होंने कहा, “मुझे अभी और सफाई चाहिए। मैं खेल शुरू होने से पहले अंपायरों से बात करने का इंतजार कर रहा हूं, मुझे यकीन है कि दिनेश (चांदीमल) भी ये चाहता होगा। अब जबकि हमे पता है कि सजा काफी कड़ी हो गई है। इसलिए हम गेंद के साथ क्या करते है, जैसी चीजें हमने ऑस्ट्रेलिया के साथ देखी, उस तरह की चीजों के लिए सजा कहीं ज्यादा कड़ी हो गई है। हमें उम्मीद है कि हम खेल में ये सब अब कम देखेंगे।”

बता दें कि श्रीलंका के कप्तान दिनेश चांदीमल भी वेस्टइंडीज टेस्ट के दौरान गेंद से छेड़छाड़ के आरोपी साबित हुए थे। चांदीमल पर आरोप था कि उन्होंने जेब से कुछ मीठी चीज निकालकर गेंद पर लगाई थी। अगर खिलाड़ियों के ये साफ बता दिया जाता है कि वो मैदान के अंदर क्या ला सकते हैं और क्या नहीं तो काफी बातें साफ हो जाएंगी।