Faf Du Plessis wants tougher punishments for ball-tampering
Faf Du Plessis, Steve Smith © Getty Images

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान फाफ ड्यु प्लेसी ने आईसीसी से बॉल टैंपरिंग मामलों में सजा और कड़ी करने की अपील की है। खुद दो बार बॉल टैंपरिंग मामले में आरोपी साबित हो चुके ड्यु प्लेसिस ने कहा, “उन्हें सजा बढ़ानी ही चाहिए। उन्हें ये जितना हो सके उतना जल्दी करना चाहिए।” 

दक्षिण अफ्रीका-ऑस्ट्रेलिया तीसरे टेस्ट के दौरान स्टीवन स्मिथ, डेविड वार्नर और कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर गेंद से छेड़छाड़ करने का आरोप लगा था। जिसके बाद आईसीसी ने वार्नर-स्मिथ को एक मैच के बैन और जुर्माने की सजा दी थी, जबकि बैनक्रॉफ्ट पर केवल जुर्माना लगा था। हालांकि बाद में क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने सख्त कदम उठाते हुए स्मिथ और वार्नर पर एक साल और बैनक्रॉफ्ट पर 9 महीने का बैन लगाया था।

ICC हॉल ऑफ फेम में जगह पाने वाले पांचवें भारतीय बने राहुल द्रविड़
ICC हॉल ऑफ फेम में जगह पाने वाले पांचवें भारतीय बने राहुल द्रविड़

हाल ही में वेस्टइंडीज के खिलाफ टेस्ट मैच के दौरान श्रीलंका के कप्तान दिनेश चांदीमल गेंद से छेड़छाड़ के आरोपी साबित हुए। जिसके बाद बॉल टैंपरिंग मामलों में सजा बढ़ाने का मुद्दा एक बार फिर चर्चा में आ गया। ड्यु प्लेसिस ने इस बारे में कहा, “मुझे पता है कि कुछ ही दिन पहले उनकी बैठक हुई थी लेकिन मुझे नहीं लगता कि उससे कुछ बदला है। नियम अब भी पहले जैसे ही हैं, इसलिए उन्हें इसे बदलने की जरूरत है। बॉल टैंपरिंग के लिए सजा और कड़ी होनी चाहिए।”

मई में हुई आईसीसी बैठक के दौरान बॉल टैंपरिंग को लेवल 2 से लेवल 3 का आरोप बनाने पर चर्चा हुई थी, लेकिन अब तक कोई आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है। ड्यु प्लेसिस का कहना है कि आईसीसी के नियमों में काफी कमियां है। उन्होंने कहा, “मैंने शायद ये बहुत बार कहा है लेकिन जब आईसीसी और नियमों की बात आती है तो बहुत सारे ग्रे एरिया हैं। पहली बात ये कि आप स्पष्टता चाहते हैं और, दूसरा ये कि आप स्थिरता चाहते हैं। ये ऐसा कुछ है जो काफी समय से नियमों का हिस्सा नहीं है।”

दक्षिण अफ्रीकी कप्तान ने कहा, “कई कप्तान हैं जो इस बारे में सालों से बात कर रहे हैं। उम्मीद है कि जब वो ये सारी नई चीजें लाएंगे तो सभी टीमों को स्पष्टता और सबसे अहम निरंतरता मिलेगी।”