Former Woman Cricketer Diana Edulji declines to take BCCI’s Lifetime Award
बीसीसीआई मुख्‍यालय।

बीसीसीआई के तीन सदस्यीय पैनल ने पूर्व भारतीय महिला कप्तान और सीओए (प्रशासकों की समिति) की मौजूदा सदस्य डायना इडुल्जी के नाम की सिफारिश सीके नायुडू लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड के लिए की। हालांकि उन्होंने सुप्रीम कोर्ट द्वारा सीओए की सदस्य नियुक्‍त करने के कारण इसे लेने से इंकार कर दिया । बीसीसीआई की समिति ने डायना के साथ भारत के पूर्व कप्तान पंकज रॉय (दिवंगत ), भारत के पूर्व सलामी बल्लेबाज और कोच अंशुमान गायकवाड़ और महिला टीम की पूर्व कप्तान और कोच सुधा शाह को भी पुरस्कार देने की सिफारिश की। बोर्ड की घोषणा के बाद ही डायना ने पुरस्कार लेने से इनकार कर दिया।

VIDEO: युवराज सिंह को टीम से बाहर किए जाने के सवाल पर भड़क गए रविचंद्रन अश्विन
VIDEO: युवराज सिंह को टीम से बाहर किए जाने के सवाल पर भड़क गए रविचंद्रन अश्विन

डायना इडुल्जी ने कहा ,‘‘ चूंकि में माननीय सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति की सदस्य हूं तो इस समय यह पुरस्कार लेना ठीक नहीं होगा । मैने अपने परिवार, दोस्तों और शुभचिंतकों से बात की जिन्होंने मेरे फैसले का समर्थन किया । मैंने पिछले साल ही अपना फैसला स्पष्ट कर दिया था जब मेरे नाम की सिफारिश की गई थी ।’’ वरिष्ठ पत्रकार एन राम, कार्यकारी अध्यक्ष सीके खन्ना और कार्यकारी सचिव अमिताभ चौधरी के तीन सदस्यीय पैनल ने उनके नाम की सिफारिश की।

डायना ने कहा ,‘‘ मैं बीसीसीआई पुरस्कार समिति के सदस्यों को धन्यवाद देना चाहती हूं जिन्होंने मुझे इस सम्मान के लायक समझा।’’ डायना और राय को 2016-17 के लिए और गायकवाड़ और शाह को 2017-18 के लिए चुना गया था । डायना ने 17 साल के करियर में 20 टेस्ट और 34 वनडे खेले। टेस्‍ट में उन्होंने 63 और वनडे में 46 विकेट लिए। वह उस समय खेलती थी जब महिलाओं के क्रिकेट का काम भारतीय महिला क्रिकेट संघ संभालती थी। संघ के पास अंतरराष्ट्रीय मैचों के लिए इंतजाम करने के लिए पैसा भी नहीं होता था। डायना इस समय सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त प्रशासकों की समिति (सीओए) का हिस्सा हैं, जो भारतीय क्रिकेट का काम देख रही है। जब सीओए प्रमुख विनोद राय से पूछा गया कि क्या यह हितों के टकराव का मामला नहीं है तो उन्होंने कहा, ‘‘समिति के अध्यक्ष एन राम हैं। मुझे सिफारिशों का पता भी नहीं है। ये नाम हमारे पास नहीं आए।’’

पंकज रॉय के बेटे प्रणब खुद एक पूर्व टेस्ट खिलाड़ी हैं, वह इस खबर को सुनकर काफी खुश थे। उन्होंने कहा, ‘‘अगर मेरे पिता जीवित होते तो वे इस खबर को सुनकर काफी भावुक हो जाते। हमें हमेशा लगता है कि मेरे पिता को यह काफी देर से मिला, लेकिन देर आये दुरूस्त आए। मेरी मां इस खबर को सुनकर काफी खुश होंगी।’’
रॉय ने 43 टेस्ट में पांच शतकों से 2442 रन बनाए। उन्होंने 1956 में चेन्नई (मद्रास) में न्यूजीलैंड के खिलाफ वीनू माकंड के साथ पहले विकेट के लिये 413 रन की विश्व रिकार्ड साझेदारी निभायी थी। यह रिकार्ड 52 वर्षों तक कायम रहा।