Gautam Gambhir extends help to martyred CRPF jawan’s five year old son
Gautam Gambhir (File Photo) © Getty Images

भारतीय टीम में सलामी बल्‍लेबाज रह चुके गौतम गंभीर हमेशा से ही सार्वजनिक मुद्दों पर अपनी राय खुलकर रखने के लिए जाने जाते हैं। भले ही बात महिला सुरक्षा की हो या फिर कश्‍मीर मुद्दे की, गंभीर देश के सभी गंभीर मुद्दो पर काफी एक्टिव रहते हैं। बीते दिनों केंद्र सरकार द्वारा कम उम्र के बच्‍चों के साथ दुष्‍कर्म पर मौत की सजा का प्रावधान पर विचार करने पर गंभीर ने सरकार को आड़े हाथों लिया था। उनका कहना था कि रेप रेप होता है। भले ही वाे छोटी बच्‍ची के साथ किया जाए या फिर किसी बड़ी युवती व महिला के साथ। एक अपराध के लिए अलग-अलग सजा नहीं दी जानी चाहिए।

खास दोस्त सुनील छेत्री के समर्थन में उतरे विराट कोहली, फैंस से की अपील
खास दोस्त सुनील छेत्री के समर्थन में उतरे विराट कोहली, फैंस से की अपील

शहीद जवान के बच्‍चे की मदद के लिए बढ़ाया हाथ

गंभीर की एनजीओ ‘गौतम गंभीर फाउंडेशन’ ने हाल ही में एक शहीद सीआरपीएफ के पांच साल के बच्‍चे की जिम्‍मेदारी उठाई। सीआरपीएफ के जवान दिवाकर दास पिछले साल एक आतंकवादी हमले में शहीद हो गए थे। वो मूल रूप से असम के रहने वाले हैं। गंभीर को पता चला कि दिवाकर दास के बेटे को आर्थिक सहायता की जरूरत है। उनकी फाउंडेशन ने जवान के परिवार वालों के बारे में जानकारी जुटाई। फाउंडेशन ने शहीद जवान के बेटे अभिरुन दास की पढ़ाई का पूरा खर्च उठाने का निर्णय लिया।

25 से ज्‍यादा जवानाे के बच्‍चों की उठा रहे हैं जिम्‍मेदारी

पिछले साल छत्‍तीसगढ़ के सुकमा में नक्‍सली हमले में बड़ी संख्‍या में जवान शहीद हो गए थे। गंभीर ने 25 जवानों के परिवार की जिम्‍मेदारी अपनी फाउंडेशन के माध्‍यम से उठाई। चाहे कश्‍मीर में आतंकी हमले का शिकार होकर जवान के शहीद हो या फिर छत्‍तीसगढ़ में नक्‍सली हमले के शिकार जवान। गंभीर हमेशा से ही देश के जवानों और उनके परिवार वालों की मदद के लिए तैयार रहते हैं।