Gautam Gambhir: it’s a huge advantage for any captain when someone like Ricky Ponting joins group
गौतम गंभीर (Image courtesy: AFP)

अपनी कप्तानी में कोलकाता नाइट राइडर्स को दो बार खिताबी जीत दिलाने के बाद गौतम गंभीर अपनी घरेलू टीम यानि कि दिल्ली डेयरडेविल्स में लौट आए हैं। डेयरडेविल्स टीम ने गंभीर को हाल 11वें आईपीएल सीजन के लिए टीम का कप्तान घोषित किया है। गंभीर के साथ दिल्ली डेयरडेविल्स ने 11वें सीजन के लिए पूर्व ऑस्ट्रेलियाई कप्तान रिकी पॉन्टिंग को टीम का कोच बनाया है। पॉन्टिंग की कप्तानी वाली ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ टेस्ट डेब्यू करने वाले गंभीर उनके दिल्ली टीम से जुड़ने से काफी खुश हैं।

निदास ट्रॉफी 2018, तीसरा टी20 (प्रिव्यू): श्रीलंका के खिलाफ मैच में पहली जीत दर्ज करने उतरेगा बांग्लादेश
निदास ट्रॉफी 2018, तीसरा टी20 (प्रिव्यू): श्रीलंका के खिलाफ मैच में पहली जीत दर्ज करने उतरेगा बांग्लादेश

गंभीर ने दिल्ली टीम में पॉन्टिंग का स्वागत करते हुए कहा, “वो एक विजेता समूह से आते हैं। उन्होंने हर तरह के हालात देखे हैं। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया टीम को दो खिताब जिताए हैं। बतौर कप्तान और खिलाड़ी उन्होंने कई उतार-चढ़ाव देखे हैं। उन्होंने लंबे समय तक ऑस्ट्रेलिया की कप्तानी की है और जब एक विजेता, जिसे हर हालात का अनुभव हो किसी टीम से जुड़ता है तो वो हर स्थिति में युवा खिलाड़ियों का मार्गदर्शन कर सकता है।” गंभीर ने आगे कहा, “उनके जैसा खिलाड़ी खराब फॉर्म में चल रहे खिलाड़ियों को सकारात्मक रहने और फॉर्म में लौटने में मदद कर सकता है। वो फॉर्म में चल रहे खिलाड़ियों को लगातार रन बनाने में मदद कर सकते हैं। जब पॉन्टिंग जैसा कोई टीम से जुड़ता है तो बतौर कप्तान आपके लिए ये बड़ा मददगार होता है।”

गंभीर की कप्तानी में केकेआर दो आईपीएल खिताब जीत चुकी है लेकिन पिछले 10 सीजन के दिल्ली का खाता खाली ही है। गंभीर के दिल्ली डेयरडेविल्स में लौटने से टीम के पहला खिताब जीतने की उम्मीद बढ़ गई है। हालांकि गंभीर का मानना है कि बतौर कप्तान उनकी पहली चुनौती चार शीर्ष विदेशी खिलाड़ियों को चुनना है। उन्होंने कहा, “आईपीएल के कप्तान के तौर पर मेरी सबसे बड़ी चुनौती चार शीर्ष स्तर के विदेशी खिलाड़ी चुनना है। आपको सही खिलाड़ी चुनने हैं और उन्हें अपने आप को साबित करने के लिए लंबा समय देना होता है। आप उनके लिए असुरक्षित माहौल नहीं बना सकते, अगर उन्हें टीम में अपनी जगह निश्चित नहीं लगेगी तो इसका असर उनके प्रदर्शन पर पड़ेगा।” दिल्ली 8 अप्रैल को राजस्थान रॉयल्स के खिलाफ टूर्नामेंट का पहला मैच खेलेगी।