Gautam Gambhir wants Ravichandran Ashwin or Ravindra Jadeja to bat at number 4 in ODI
Ravindra jadeja, Ravichandran ashwin © Getty Images

इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे मैच में टीम इंडिया 323 रन के लक्ष्य का पीछा करने में असफल रही और 236 पर ऑल आउट हो गई। भारतीय टीम की हार की वजहों में निचले क्रम में बल्लेबाजों की कमी एक बड़ा कारण हैं। देखा जाय तो हार्दिक पांड्या के अलावा टीम इंडिया के बाकी गेंदबाज कुलदीप यादव, युजवेंद्र चहल और उमेश यादव कुछ खास बल्लेबाजी नहीं कर पाते हैं। ऐसे में अगर कोई विपक्षी टीम 6-7 विकेट निकाल लेती है तो टीम इंडिया का बल्लेबाजी क्रम खत्म हो जाता है। टीम इंडिया के सीनियर बल्लेबाज गौतम गंभीर ने इस परेशानी से निपटने के लिए रविचंद्रन अश्विन और रविंद्र जडेजा में से किसी को वनडे टीम में में वापस लाने का सुझाव दिया है।

ये उपलब्धि हासिल करने वाले बांग्‍लादेश के पहले गेंदबाज बने शाकिब और मेहदी
ये उपलब्धि हासिल करने वाले बांग्‍लादेश के पहले गेंदबाज बने शाकिब और मेहदी

क्रिकबज से बात करते हुए गंभीर ने कहा, “अश्विन को वापस लाया जा सकता है। वो केएल राहुल और एमएस धोनी निचले बल्लेबाजी क्रम में किसी भी नंबर पर खेल सकते हैं। अश्विन या जडेजा को चार नंबर पर बल्लेबाजी करने का मौका दिया जा सकता है और केएल नंबर पांच पर आ सकता है, विराट तीन नंबर पर खेल सकता है। नंबर चार पर खेलने वाला बल्लेबाज ऐसा ना भी हो जो 60-70 गेंद पर शतक बना सके। अगर वो आपको 30, 40 रन बनाकर देता है तो आपके पास केएल, हार्दिक और एमएस की फिनिशिंग की ताकत तो है ही। इससे आपको छठां गेंदबाजी विकल्प भी मिलेगा और अच्छा अटैक भी।”

क्रुनाल पांड्या को भी मौका दिया जा सकता है

गंभीर ने आईपीएल में बतौर ऑलराउंडर मुंबई इंडियंस के साथ खेल चुके क्रुनाल पांड्या के विकल्प पर भी बात की। उन्होंने कहा, “ये भी बुरा विकल्प नहीं है। उसे चार नंबर पर खेलने का मौका दें और देखें कि वो कैसा प्रदर्शन करता है। मुझे उम्मीद है कि वो नॉटिंघम और लॉर्ड्स जैसे विकेट पर अच्छा छठां गेंदबाजी विकल्प साबित होगा, जहां वो 5-6 ओवर करा सकता है। अगर किसी का दिन खराब जा रहा है तो आपके पास बाएं हाथ का एक अतिरिक्त स्पिनर होगा।”

टीम कॉम्बिनेशन को देखें, एक खिलाड़ी को नहीं

गंभीर ने ये बयान 2019 विश्व कप को ध्यान में रखते हुए दिया। उन्होंने कहा, “अगर टीम इंडिया को प्रयोग करना है तो उन्हें छह गेंदबाजों को खिलाकर देखना चाहिए। विराट कोहली और रवि शास्त्री लगातार प्रयोग की बात करते हैं और मेरा मानना है कि प्रयोग करने का यही तरीका है। मुझे लगता है कि हम एक खिलाड़ी और बल्लेबाजी की बात करते हैं लेकिन कॉम्बिनेशन की बात करना ज्यादा जरूरी है। अगर प्रयोग करना है तो टीम कॉम्बिनेशन के हिसाब से करना चाहिए।”