Harbhajan Singh condemns ICC’s decision over ball tempering dispute
हरभजन सिंह © PTI

भारतीय स्पिनर हरभजन सिंह ने आज ऑस्ट्रेलिया के सलामी बल्लेबाज कैमरून बैनक्रॉफ्ट पर मैच फीस का सिर्फ 75 प्रतिशत जुर्माना और बैन नहीं लगाने के आईसीसी के फैसले की निंदा की। हरभजन ने 2001 के दक्षिण अफ्रीका टेस्ट का जिक्र किया जब पांच भारतीयों सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग, सौरव गांगुली, शिवसुंदर दास, दीपदास गुप्ता और उन पर मैच रैफरी माइक डेनिस ने अलग अलग अपराधों में कम से कम एक टेस्ट का बैन लगाया था।

स्टीवन स्मिथ के सस्पेंड होने पर अजिंक्य रहाणे बन सकते हैं राजस्थान रॉयल्स के नए कप्तान!
स्टीवन स्मिथ के सस्पेंड होने पर अजिंक्य रहाणे बन सकते हैं राजस्थान रॉयल्स के नए कप्तान!

उन्होंने 2008 के सिडनी टेस्ट का भी हवाला दिया जब एंड्रयू साइमंडस के खिलाफ कथित नस्लीय टिप्पणी के कारण उन पर तीन टेस्ट का बैन लगाया गया था। हरभजन ने ट्वीट किया, ‘‘वाह आईसीसी वाह, फेयरप्ले। बैनक्रॉफ्ट पर कोई बैन नहीं जबकि सारे सबूत थे। वहीं 2001 में दक्षिण अफ्रीका में जोरदार अपील करने के कारण हम छह पर बैन लगा दिया गया था और वो भी बिना सबूत के और सिडनी 2008 तो याद ही होगा। दोषी साबित नहीं होने पर भी तीन टेस्ट का बैन। अलग अलग लोग अलग अलग नियम।’’

इंग्लैंड के पूर्व कप्तान माइकल वान ने कहा, ‘‘एक मैच का बैन और मैच फीस का सो प्रतिशत जुर्माना स्मिथ के लिए। बेनक्रोफ्ट पर 75 प्रतिशत जुर्माना और डिमेरिट अंक। ये समय मिसाल कायम करने का था और ये कैसी सजा सुनाई है।’’